पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पर्व:कल सुबह 9.30 से रात 9.29 बजे तक बांधी जा सकेगी राखी

अजमेरएक दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 29 साल बाद इस बार रक्षाबंधन पर समसप्तक याेग
Advertisement
Advertisement

29 साल बाद समसप्तक याेग में 3 अगस्त काे रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाएगा। इस दिन सुबह 9.30 से रात 9.29 बजे तक राखी बांधी जा सकेगी। इस दिन इस सावन मास का 5वां और आखिरी साेमवार भी है। पं. यज्ञदत्त शर्मा ने बताया कि 3 अगस्त काे सुबह 9.29 बजे तक भद्रा, सुबह 7.30 से सुबह 9 बजे तक राहुकाल व रात 9.29 बजे तक पूर्णिमा है। शास्त्रानुसार सावन मास की पूर्णिमा काे भद्रा रहित समय में रक्षाबंधन पर्व मनाना शुभ है।

इसलिए सुबह 9.30 से रात 9.29 बजे तक राखी बांधी जा सकती है। उन्होंने बताया कि 3 अगस्त काे सुबह 7.20 बजे तक उत्तराषाढ़ नक्षत्र तथा 3 अगस्त काे सुबह 7.20 बजे से 4 अगस्त की सुबह 8.11 बजे तक श्रवण नक्षत्र व 3 अगस्त काे सुबह 7.20 बजे से 4 अगस्त काे सुबह 5.57 बजे तक सर्वार्थ सिद्धि याेग है। सन् 1991 के बाद इस बार रक्षाबंधन के दिन समसप्तक याेग का शुभ संयाेग भी बन रहा है।

प्रीति याेग, आयुष्मान याेग, सर्वार्थ सिद्धि याेग, साेमवती पूर्णिमा, मकर का चंद्रमा, श्रवण नक्षत्र व उतरा आषाढ़ नक्षत्र का विशेष शुभ संयाेग बन रहा है। यह संयाेग सभी वर्गाें के लिए सुख समृद्धि कारक व कृषि क्षेत्र के लिए लाभकारी है। श्रवण नक्षत्र और सर्वार्थ सिद्धि याेग एकसाथ हाेना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। पूर्णिमा, श्रावण नक्षत्र और सर्वार्थ सिद्ध याेग नामकरण, व्यापार व वाहन खरीदने के लिए शुभ हाेता है।

राखी बांधने के मुहूर्त

  • सुबह 9.29 से सुबह 10.54 बजे तक शुभ का चाैघड़िया।
  • दाेपहर 12 से 1 बजे तक अभिजित मुहूर्त।
  • ​​​​​​​दाेपहर 2.10 से शाम 7.10 बजे तक चर, लाभ व अमृत का चाैघड़िया।
Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज रिश्तेदारों या पड़ोसियों के साथ किसी गंभीर विषय पर चर्चा होगी। आपके द्वारा रखा गया मजबूत पक्ष आपके मान-सम्मान में वृद्धि करेगा। कहीं फंसा हुआ पैसा भी आज मिलने की संभावना है। इसलिए उसे वसूल...

और पढ़ें

Advertisement