प्रदर्शन / दलित श्रमिक बाहुल्य क्षेत्र में शराब की दुकान का क्षेत्रवासियाें ने किया विराेध

X

  • नगरा िस्थत दुकान के पास है भैरू मंदिर और बालाजी मंदिर, दुकान बंद करने की मांग

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

अजमेर. अलवर गेट थाना क्षेत्र के नसीराबाद राेड नगरा में मंगलवार काे खुली शराब की दुकान काे लेकर क्षेत्रवासियाें में अाक्राेश व्याप्त हाे गया। लाेगाें ने दुकान के सामने एकत्र हाेकर प्रदर्शन किया अाैर दुकान बंद कराने की मांग की। 
प्रदर्शन में काेली समाज की महिलाएं और इलाके के लाेग शामिल थे। अलवर गेट थाना पुलिस का दल माैके पर पहुंचा और लाेगाें काे सड़क के बीच से हटाया। अखिल भारतीय काेली समाज के शहर अध्यक्ष निर्मल बैरवाल का कहना है कि यह इलाका दलित, बीड़ी श्रमिक और बिल्डिंग मजदूर बाहुल्य है, राज्य सरकार के नियमाें के अनुसार ऐसे इलाकाें में शराब की दुकान नहीं खुल सकती है।

खास बात यह है कि दुकान  रेलवे के लाेकाे कारखाने की बाउंड्री से सटी हुई है, दुकान के पचास मीटर की परिधि में प्राचीन भैरू मंदिर है जाे देव स्थान विभाग में रजिस्टर्ड है, दुकान के निकट ही राेकड़िया बालाजी मंदिर है। इलाके में सेंट पाल, संत फ्रांसिस और सेंट कान्वेंट स्कूलें हैं, बच्चे इसी रास्ते से हाेकर स्कूल पहुंचते हैं।

आबकारी नीति के मुताबिक ऐसे क्षेत्र में नहीं खुल सकती है दुकान
राज्य सरकार की अाबकारी नीति के अनुसार अनुसूचित जाति, जनजाति वर्ग के बाहुल्य इलाकाें में शराब की दुकानें नहीं खुल सकती हैं। एेसे इलाके जहां पर श्रमिक वर्ग का बाहुल्य हाेे अाैर एेसे सरकारी व गैर सरकारी संस्थान हाेे, जहां बड़ी संख्या में मजदूर काम करते हैं, वहां शराब की दुकानें अावंटित नहीं हाेती हैं। उल्लेखनीय है कि इलाके के नगर निगम वार्ड संख्या 33, 34, 35  अनुसूचित जाति बाहुल्य क्षेत्र  है। यही कारण है कि पिछले दाे साल पहले जिला अाबकारी विभाग ने यहां से पुरानी शराब की दुकान हटा दी थी। अब इस क्षेत्र में नई दुकान का अावंटन भी नहीं किया जाता है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना