पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

नोटिस:इलाज में लापरवाही काे लेकर परिवाद पर डाॅक्टर से जवाब तलब

अजमेर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डाॅ. प्रीतम काेठारी सहित अन्य काे नाेटिस जारी किया

गर्भवती के इलाज में लापरवाही के आराेपाें काे लेकर दायर परिवाद पर जिला उपभाेक्ता आयोग ने डाॅ प्रीतम काेठारी सहित अन्य काे नाेटिस जारी कर जवाब तलब किया है। परिवादी पक्ष ने उपभाेक्ता आयोग से गुहार लगाई है कि गर्भवती और उसके परिवारजन ने नवजात के जन्म से मृत्यु तक जाे मानसिक पीड़ा सहन की और इलाज में राशि व्यय हुई उसके एवज में 53 लाख 45 हजार रुपए क्षतिपूर्ति दिलवाई जाए।

उपभाेक्ता आयोग के समक्ष पंचशील निवासी प्रशांत शर्मा की पत्नी व पूर्व लाेक अभियाेजक एडवाेकेट निर्मला शर्मा की पुत्रवधू ऋचा शर्मा ने डाॅ. प्रीतम काेठारी व अन्य के खिलाफ वकील आशीष सक्सेना व हर्षित मित्तल के जरिये परिवाद पेश किया है। ऋचा का कहना है कि उन्हाेंने गर्भधारण के दाैरान डाॅ प्रीतम काेठारी से कंसल्ट किया था। परिवादिया की उम्र के मद्देनजर गर्भ में बच्चे की स्थिति काे लेकर जांच की गई जिसमें यह जानकारी मिलती है कि बच्चा मानसिक रूप से अस्वस्थ नहीं हाे।

इसके लिए जाे जरूरी टेस्ट करने थे वे नहीं करवाए गए। ट्रिपल मार्कर ट्रिमिस्टर टेस्ट नहीं किया गया और तय समयावधि में गर्भस्थ शिशु की स्थिति मालूम नहीं हुई। स्थानीय निजी अस्पताल में 1 अगस्त काे एक परिवादिया ने बच्चे काे जन्म दिया जिसमें डाउन सिंड्राेम के लक्षण थे। जांच में यह साबित हाे गया कि शिशु डाउन सिंड्राेम से पीड़ित है। शिशु की इलाज के दाैरान 5 सितंबर काे मृत्यु हाे गई।

शिशु काे डाउन सिंड्राेम है यह पहले ही जांच में पता चल जाता ताे कानूनी प्रावधानाें के तहत 20 सप्ताह की गर्भावस्था के दाैरान ही गर्भपात करवाया जा सकता था। परिवादी पक्ष का आराेप है कि अप्रार्थी चिकित्सक ने जरूरी जांच व टेस्ट समय पर नहीं करवाए और इलाज में घाेर लापरवाही बरती जिसकी वजह से परिवादिया सहित पूरे परिवार काे भारी मानसिक पीड़ा से गुजरना पड़ा और इलाज में राशि भी खर्च हुई।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें