पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Responsibility Of Sampi Police Station By Making 11 year old Fayaz Of The Orphanage In The Chair Of CI; Again Eid Greetings

अजमेर दरगाह CI की पहल:यतीमखाने के 11 साल के फयाज काे CI की कुर्सी पर बैठाकर साैंपी थाने की जिम्मेदारी; फिर दी ईद की बधाइयां

अजमेर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कुर्सी पर फयाज - Dainik Bhaskar
कुर्सी पर फयाज
  • सीआई ने बच्चे से कहा यदि अच्छी पढ़ाई कराेगे ताे एक दिन तुम भी इसी कुर्सी पर बैठकर लाेगाें की सेवा कराेगे

सुनने में भले ही आपकाे विश्वास नहीं हाे, कि ग्यारह साल का बच्चा आखिर कैसे सीआई बन सकता है, लेकिन यह हकीकत है कि बुधवार काे दरगाह थानाप्रभारी दलबीर सिंह ने एक बच्चे काे सीआई की कुर्सी पर बैठाकर पूरे थाने की जिम्मेदारी साैंप दी।

कुछ इस तरह से थानाप्रभारी ने यतीमखाने के एक बच्चे फयाज काे ईद की शुभकामनाएं दीं। फयाज काे थानाप्रभारी बहुत पहले से जानते हैं, औैर समय-समय पर उसकी औैर यतीमखाने के अन्य बच्चाें की हर संभव मदद करते रहते हैं। ईद पर फयाज उनसे मिलने जब थाने पहुंचा ताे खुशी का ठिकाना नहीं रहा औैर थानाप्रभारी ने अपनी कुर्सी से उठकर उसे वहां बैठा दिया।

फयाज के साथ यतीमखाने के केयरटेकर फरहत सिद्दीकी भी दरगाह थाने आए थे। सीआई ने फरहत काे सभी बच्चाें के लिए ईदी भेंट कर ईद की शुभकामनाएं दीं। मालूम हाे कि फरहत यतीमखाने के बच्चाें की सेवा में जुटे हैं और समय-समय पर हर संभव मदद कर रहे हैं।

पहले डरा-सहमा, फिर आराम से कुर्सी पर बैठकर बात करने लगा

सीआई दलबीर सिंह ने बताया कि फयाज काे जैसे ही कुर्सी पर बैठने के लिए कहा ताे पहले वे थाेड़ा सहम गया औैर कुर्सी के आगे की ओर बैठने लगा, फिर उसे सीआई की कुर्सी के महत्व के बारे में बताया, कहा कि - यह न्याय की कुर्सी है, यहां जाे भी परिवादी आता है उसे न्याय मिलता है। इसके बाद फयाद कुर्सी पर आराम से बैठ गया औैर बातें करने लगा।

पढ़ाई कराेगे ताे तुम भी ऐसी कुर्सी हासिल कराेगे

सीआई दलबीर सिंह ने फयाज से कहा कि अच्छी पढ़ाई कराेगे ताे तुम भी ऐसी ही कुर्सी पर बैठकर लाेगाें की मदद कराेगे। फयाज काे कुर्सी की महत्व की जानकारी देकर मुंह मीठा कराया। फयाज औैर उसकी छाेटी बहन दरगाह के यातीम खाने में रहते हैं, औैर यहीं मदरसे में पढ़ाई करते हैं। यह सरवाड़ के रहने वाले हैं, पिता की माैत के बाद से यतीमखाने में हैं।

(रिपोर्ट : अतुलसिंह)

खबरें और भी हैं...