पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Search For Absconding Councilor, 2 Accused Councilors Will Also Be Questioned; How To Settle The Notice With 2.5 Lakhs, Investigation Will Be Revealed, Interrogation Of Both The Arrested Accused Continues

ब्यावर रिश्वत प्रकरण:फरार पार्षद की तलाश, आरोपित 2 पार्षदों से भी होगी पूछताछ; नोटिस का ढाई लाख लेकर कैसे करते निपटारा, जांच में होगा खुलासा

अजमेर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ढाई लाख रुपए रिश्वत लेते गिरफ्तार दोनों आरोपियों से पूछताछ जारी

ब्यावर नगर परिषद की ओर से जारी किए गए नोटिस का निपटारा करने के मामले में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की ओर से गिरफ्तार दोनों आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। साथ ही मामले में फरार पार्षद कुलदीप बोहरा को ACB तलाश कर रही है। वहीं मामले में सामने आए दो पार्षद अनिल चौधरी व सुरेन्द्र सोनी से भी ACB पूछताछ करेगी।

साथ ही ACB यह भी पता करने में जुटी है कि इतनी बड़ी राशि लेकर सरकारी नोटिस का निपटारा पार्षद अपने स्तर पर कैसे कर सकते है। इसमें किसी सरकारी कार्मिक या अन्य किसी की मिलीभगत तो नहीं। इसके लिए इनकी कॉल डिटेल सहित अन्य पड़ताल भी की जाएगी।

खास बात यह है कि जिन तीन पार्षदों के नाम आ रहे है, वे तीनों ही पार्षद निर्दलीय के रूप में जीते थे और बाद में भाजपा में शामिल हो गए। यहां भाजपा का बोर्ड बना। वर्तमान में सभापति भाजपा से नरेश कनोजिया है और गिरफ्तार किया गया भरत मंगल कनोजिया का निजी सचिव बताया जा रहा है। हालाकिं कनोजिया ने इस बात से इनकार कर दिया है।

ACB के ASP भोपाल सिंह लखावत ने बताया कि पार्षद कुलदीप बोहरा फरार है और उसकी तलाश की जा रही है, वहीं प्रकरण में जिन दो पार्षदों का नाम आया है,उनसे भी एसीबी पूछताछ करेगी। नोटिस नगरपरिषद की ओर से जारी किया गया था और इसका निपटारा पार्षद अपने स्तर पर कैसे करते, यह जांच का विषय है। साथ ही इसकी भी जांच की जाएगी कि इसमें किसी सरकारी कार्मिक या अन्य लोगों की मिलीभगत तो नहीं है। फिलहाल गिरफ्तार दोनों आरोपी भरत मंगल और सुनील लखारा से पूछताछ की जा रही है।

यह है मामला

शाहपुरा मोहल्ला शीतला माता मंदिर के पास रहने वाले परिवादी सीताराम हलवाई ने मकान के ग्राउंड फ्लोर पर हॉल का रिनोवेशन करवा कर मिठाई की दुकान खोल रखी है। परिवादी ने आरोप लगाया कि वार्ड संख्या 56 के पार्षद अनिल चौधरी, वार्ड संख्या 57 के पार्षद कुलदीप बोहरा ने अवैध निर्माण की शिकायत की। इस पर नगररिषद के सहायक प्रभारी अतिक्रमण ने नोटिस जारी किया।

नोटिस मिलने के कुछ दिन बाद भरत मंगल ने 14 मई को अपने मोबाइल से फोन कर बताया कि दुकान के नोटिस के संबंध में निपटारा करना चाहते हो तो पार्षद अनिल चौधरी, कुलदीप बोहरा और पार्षद सुरेंद्र सोनी को तीन लाख रुपए देने होंगे, अन्यथा दुकान तुड़वा देंगे। इस पर शिकायत के बाद एसीबी की टीम ने 17 मई को सत्यापन किया तो परिवादी से कुलदीप बोहरा और भरत मंगल समेत अन्य द्वारा परिवादी से 2 लाख 50 हजार रुपए की रिश्वत मांगने की पुष्टि हुई।

बरामद की गई रिश्वत की राशि
बरामद की गई रिश्वत की राशि

ऐसे कसा शिकंजा, दो किए गिरफ्तार

आरोपियों ने शातिराना अंदाज से रिश्वत लेने का प्लान बनाया, लेकिन एसीबी से बच नहीं सके। 10 जून को आरोपी पार्षद कुलदीप बोहरा और सभापति के कथित निजी सचिव भरत मंगल परिवादी की दुकान गिरीराज मिष्ठान भंडार पहुंचे और परिवादी से कहा कि अभी दस मिनट बाद योगेश या सुनील नाम से काेई युवक आएगा, उसे 2 लाख 50 हजार रुपए दे देना। थोड़ी देर बाद एक युवक आया जिसने खुद का नाम सुनील बताया और कहा कि पार्षद कुलदीप बोहरा और भरत मंगल ने भेजा है 2 लाख 50 हजार रुपए दे दो।

जैसे ही राशि सुनील को दी, एसीबी ने उसे पकड़ लिया। पूछताछ के बाद टीम सुनील को लेकर भरत मंगल के बताए स्थान पर पहुंची। जहां भरत मंगल का कॉल सुनील के पास आया और सुनील को जयमंदिर सिनेमा हॉल के बाहर आने काे कहा। टीम जब सुनील को लेकर वहां पहुंची ताे भनक लगने पर पार्षद कुलदीप बोहरा फरार हो गया और भरत मंगल भागता हुआ दिखा। सुनील के बताने पर टीम ने उसका पीछा कर लौहारों की गली से पकड़ लिया।

एसीबी कार्रवाई के बाद गिरफ्तार बबीता चौहान-फाइल फोटो
एसीबी कार्रवाई के बाद गिरफ्तार बबीता चौहान-फाइल फोटो

2,25 लाख की रिश्वत लेते 3 साल पहले भी पकड़ी गई थी सभापति
8 अगस्त 2018 को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो अजमेर की टीम ने ब्यावर नगरपरिषद की तत्कालीन सभापति बबीता चौहान, उनके पति नरेन्द्र चौहान व एक अन्य शिवप्रसाद को सवा दो लाख रुपए की रिश्वत लेने के मामले में गिरफ्तार किया था। सभापति ने यह रकम शिकायतकर्ता चिकित्सक डॉ. राजीव जैन से अपने घर पर ली। रिश्वत चिकित्सक के भूखंड रूपान्तरण की एवज में ली गई। इस दौरान घर से जब्त किए गए दस्तावेज से 78 लाख की एक दुकान व 5 लाख रुपए नकद लेने का एक अन्य मामला भी प्रकाश में आया। जो पूर्व पार्षद गुरुबचनसिंह के कॉम्पलेक्स निर्माण से जुड़ा था।

खबरें और भी हैं...