पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खालसा पेट्राेल पंप हादसा:शब्बीर के माता-पिता और पत्नी काे शनिवार शाम तक नहीं दी थी जानकारी, छाेटे भाई इमरान का राे-राेकर बुरा हाल

अजमेर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पूरे घर की जिम्मेदारी थी तावीस पर, बुढ़ापे की लाठी टूटी

खालसा पेट्राेल पंप पर हुए हादसे में तबीजी के दाे घराें की खुशियां जलकर राख हाे गई है। इमरजेंसी रिस्पांस व्हीकल के चालक शब्बीर और गैस प्लांट तबीजी में हेल्पर माेहम्मद ताबिश की माैत के बाद उनके घराें में कमाने वाला काेई नहीं है। तावीस जहां अपने माता-पिता का इकलाैता बेटा था और एक बहन का इकलाैता भाई था। वहीं शब्बीर अपने बीमार पिता, बूढ़ी मां, बीवी और दाे बच्चाें के साथ एक छाेटे भाई का सहारा था।

ताबिश के पिता बुजुर्ग माैलाना अहद ने बताया कि उनके बेटे की उम्र महज 26 साल थी। बेटी की शादी नवंबर 2020 में कर दी थी और अब ताबिश के लिए भी रिश्ता देखने की तैयारी थी। हालांकि वह कहता था पहले बहन की शादी में हुआ कर्ज अदा कर लें उसके बाद शादी का साेचेंगे। उन्हाेंने बताया वह गेगल से एक निजी काॅलेज में बीसीए की पढ़ाई भी कर रहा था।

फाइनल ईयर में था। साथ ही घर का खर्च चलाने के लिए प्लांट में बताैर हेल्पर भी काम करता था। 59 वर्षीय माैलाना अहद कहते हैं कि दाे साल पहले तक वह मस्जिद में इमामत करते थे। दाे साल से घर में ही बैठे हैं। ऐसे में ताबिश काे मिलने वाले 10 हजार रुपए माहवार से खर्च पूरे करना मुश्किल ही हाेता था। बेटी की शादी का कर्ज भी अदा करना है, ऐसे में उन्हाेंने एक घर के कुछ बच्चाें काे दीनी तालीम देना शुरू किया था, ताकि घर में कुछ मदद हाे सके।

न बच्चाें काे पता न पिता काे, शब्बीर चला गया
शब्बीर के घर का दुख भी कम नहीं है। हादसे में उसकी माैत हाे गई, शनिवार शाम काे शव घर आने तक पिता बाबू भाई लाेहार व उसके बीवी बच्चाें काे ही नहीं बताया गया कि उन्हें सहारा देने वाला अब नहीं लाैटेगा। शब्बीर के पिता बाबूभाई लाेहार हार्ट पेशेंट हैं। शब्बीर का बड़ा बेटा इलियास 5 साल का है और छाेटा बेटा अरशद 2 साल का है।

20 साल पुराने वाहन से चलाया जा रहा था काम

खालसा पेट्राेल पंप पर हुए हादसे काे लेकर कई खामियां सामने आई हैं। पुलिस काे दी शिकायत में भी इन खामियाें काे दर्ज किया गया है। जिस वाहन के जरिये यह काम किया जा रहा था वह आउटडेटेड श्रेणी में शामिल है। इस वाहन का रजिस्ट्रेशन करीब 22 साल पुराना हैं। समझाैता बैठक के दाैरान आईओसी के अधिकारियाें के सामने यह आरोप भी लगाया गया कि गैस प्लांट के सेफ्टी ऑफिसर वहां माैजूद ही नहीं थे और कांट्रैक्ट बेस पर काम करने वाले कर्मचारियाें काे ही वहां भेज दिया गया। जांच के लिए जयपुर से विस्फाेटक विभाग की टीम भी पहुंची है।

हादसे में मरने वालाें में आईओसी गैस प्लांट तबीजी में काम करने वाले चालक औैर हेल्पर भी शामिल हैं। शनिवार काे हुए हंगामे के दाैरान गैस प्लांट प्रबंधन पर कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं। पुलिस थाने में प्लांट के मैनेजर, असिस्टेंट मैनेजर और सेफ्टी ऑफिसर के खिलाफ नामजद शिकायत दी गई है। आरोप है कि इनकी लापरवाही से ही यह हादसा हुआ है। शिकायत में कहा गया है कि प्लांट से जाे इमरजेंसी रिस्पांस व्हीकल भेजा गया था वह करीब 22 साल पुराना है। उसका रजिस्ट्रेशन 1999 में हुआ था।

बीपीसीएल ने जारी किया पत्र
मुंबई जारी पत्र में बीपीसीएल के डीजीएम पीआर सुंदरराजन ने बताया कि हादसा दुखद है। पेट्राेल पंप पर ऑटाे एलपीजी की सुविधा काफी समय से बंद थी लेकिन वहां मौजूद टैंक खाली करना था। इसके लिए इमरजेंसी रिस्पाॅन्स व्हीकल भेजा गया था। एलपीजी सेफ्टी ऑफिसर और रिफिल सेल्स ऑफिसर के सुपरविजन में टैंक खाली किया जा रहा था।

माैके पर अग्निशमन संस्थान और वाटर टैंकर भी रखे थे। सेफ्टी के सभी साधन थे लेकिन अचानक हादसा हाे गया। बीपीसीएल की पूरी टीम घायलाें के इलाज में पूरी मदद कर रही है। हमारी टीम अस्पताल में माैजूद है। एक घायल अशाेक वैष्णव काे एयर लिफ्ट कर दिल्ली के अपाेलाे अस्पताल भेजा गया है। एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर पीएस रवि भी अजमेर पहुंच गए हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें