• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Social Distancing Does Not Even Put Away Masks; Ramchandra Chaudhary Became The President For The Sixth Time, Said There Will Be A Turnover Of 1000 Crores In The Coming Time

क्या अजमेर डेयरी में नहीं फैलता कोरोना:सोशल डिस्टेसिंग तो दूर छठी बार अध्यक्ष बने रामचन्द्र चौधरी ने मास्क तक नहीं लगाया,  कहा- डेयरी को नई ऊंचाइयों तक ले जाएंगे

अजमेरएक वर्ष पहले
अजमेर डेयरी में हुई प्रेसवार्ता में बिना मास्क के दिखे पदाधिकारी।

अजमेर डेयरी के संचालक मंडल के 12 सदस्यों का निर्विरोध निर्वाचन हुआ और शनिवार को अध्यक्ष पद पर रामचन्द्र चौधरी की ताजपोशी हो गई। वे छठी बार अध्यक्ष बने। वर्तमान में कोरोना संक्रमण को लेकर जारी गाइड लाइन सभी जगह पर लागू है। इससे बचाव के लिए मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य है। बावजूद इसके अध्यक्ष बनने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए संचालक मंडल के साथ चौधरी भी बैठे। यहां सोशल डिस्टेसिंग तो दूर, यहां मौजूद कई के मुंह पर मास्क तक नहीं था।

आभार जताया

चौधरी ने छठी बार भरोसा जताने पर आभार जताया। पारदर्शिता और कठोर परिश्रम के साथ अजमेर डेयरी को नई ऊंचाइयों तक ले जाने के प्रयास का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि समस्त दुग्ध उत्पादक साथियों के सहयोग से हमारा नया स्मार्ट और ग्रीन प्लांट बन कर तैयार हुआ है, जिसकी भारतवर्ष में अनूठी पहचान बन रही है।

संचालक मंडल

अजमेर जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड अजमेर निर्वाचन अधिकारी के अनुसार रामचन्द्र चौधरी छठी बार अजमेर डेयरी के अध्यक्ष बने। साथ ही संचालक मंडल में छोगालाल चौधरी, दिनेश सिंह राठौड़, रामकन्या, मोती लाल गुर्जर, रामपाल गुर्जर, हरिराम, रूपचंद, लादूराम जाट, लादुराम शर्मा, भागचंद, राजेंद्र कुमार चौधरी को सदस्य चुना गया है।

एक हजार करोड़ होगा टर्नओवर

रामचन्द्र चौधरी ने कहा कि वह इस कार्यकाल में भी सच्चे सेवक की तरह कार्य करेंगे। उन्होंने कहा कि अजमेर डेयरी का 250 करोड़ का टर्न ओवर था, जो अब 900 करोड़ का टर्न ओवर है। आने वाले समय में एक हजार करोड़ का भी हो जाएगा।

2 साल में पूरे होंगे अधूरे काम

रामचन्द्र चौधरी ने कहा कि अधूरे पडे़ कार्यों को आगामी 2 वर्षों में पूरा कर लिया जाएगा। इसमें मुख्यत: 20 करोड़ की लागत से चीज प्लांट की स्थापना, 10 करोड़ की लागत से जर्मनी से आयातित चिप्लेट मशीन लगवाना, 10 करोड़ की लागत से सोलर प्लांट लगवाना, 4 करोड़ की लागत से एलपीजी के स्थान पर नेचुरल गैस पद्धति लागू करना, नए प्लांट द्वारा निर्मित वैल्यू ऐडेड प्रोडक्ट्स का रेफ्रिजरेटर ट्रकों द्वारा समस्त बूथों पर माल उपलब्ध करवाना और समस्त दूध उत्पादकों को राष्ट्रीयकृत बैंक से अजमेर डेयरी और संबंधित दुग्ध समिति की गारंटी पर ऋण दिलवाना शामिल है।

खबरें और भी हैं...