• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Special Vigil Will Be Kept On Those Living Alone; Beat Constable Will Make A List By Survey, Will Make Regular Contact, Will Take Help Of Voluntary Organizations

वृद्धजनों के सम्पर्क में रहेगी पुलिस:अकेले रहने वालों पर रखी जाएगी खास निगरानी; बीट कांस्टेबल सर्वे कर बनाएगा सूची, करेगा नियमित सम्पर्क, स्वयंसेवी संगठनों की मदद लेंगे

अजमेर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अजमेर सहित जिले भर में वरिष्ठ नागरिकाें काे संबल प्रदान करेगी। इसके लिए बीट कांस्टेबल विशेष ध्यान रखेंगे और इनका सर्वे कर सूची बनाई जाएगी। साथ ही बीट कांस्टेबल इनसे लगातार सम्पर्क कर हाल चाल जानेगा। जरूरत पड़ने पर मदद भी करेंगे। खास कर अकेले रह रहे वरिष्ठ नागरिकों पर विशेष निगरानी रखी जाएगी और उनको सुरक्षा उपाय करने के लिए जागरूक किया जाएगा। इसके लिए स्वयं सेवकों व स्वयं सेवी संगठनों की मदद भी ली जाएगी।

इनके साथ होने वाले अपराधों के लिए अलग से रजिस्टर का संधारण करना होगा और हर माह की तीन तारीख को रिपोर्ट भेजनी होगी। इसके लिए अजमेर SP जगदीश चन्द्र शर्मा ने माता-पिता और वरिष्ठ नागरिक का भरण-पोषण तथा कल्याण अधिनियम 2007 एवं माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों का भरण-पोषण और कल्याण नियम 2010 के प्रभावी क्रियान्वयन की सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए सभी थाना प्रभारियों को निर्देश जारी कर दिए है।

यह जारी किए निर्देश

  • प्रत्येक थानाधिकारी अपने थाना क्षेत्र के भीतर रहने वाले वरिष्ठ नागरिकों की, विशेष रूप से उनकी जो अकेले रहते हैं, की एक सूची थाने पर रखेगा।
  • पुलिस थाने का कोई एक प्रतिनिधि, जहां तक संभव हो किसी सामाजिक कार्यकर्ता या स्वयं सेवक के साथ नियमित अंतराल पर माह में कम से कम एक बार ऐसे नागरिकों से मुलाकात करेगा।
  • वरिष्ठ नागरिक द्वारा सहायता मांगे जाने पर शीघ्रता से मुलाकात करेगा और वरिष्ठ नागरिकों की समस्याओं पर स्थानीय पुलिस द्वारा तत्परता से ध्यान दिया जाएगा।
  • प्रत्येक पुलिस थाने के लिए एक या अधिक स्वयंसेवी समिति गठित की जाएगी, जो वरिष्ठ नागरिकों और विशेष रूप से जो अकेले रहते हैं, से नियमित संपर्क करेगी।
  • ASP और DSP नियमित अंतराल पर पुलिस थानों के माध्यम से वरिष्ठ नागरिकों के जीवन और संपत्ति के संरक्षण के लिए उठाए गए कदमों को व्यापक रूप से प्रसारित करेंगे।
  • प्रत्येक पुलिस थाना वरिष्ठ नागरिकों के विरुद्ध अपराधों के संबंध में समस्त महत्वपूर्ण जानकारी के लिए रजिस्टर रखेंगे। इसकी मासिक रिपोर्ट प्रत्येक माह की 3 तारीख तक जिला कार्यालय भेजेंगे।
  • वरिष्ठ नागरिकों द्वारा उनकी सुरक्षा के हित के लिए क्या कार्य किए जाने है और क्या नहीं करने की जानकारी का प्रचार प्रसार किया जाएगा।
  • वरिष्ठ नागरिकों के घरेलू नौकरों व कार्यरत अन्य के सत्यापन किए जाएंगे। इनकी सुरक्षा के लिए पड़ोस में रह रहे नागरिकों, युवा स्वयं सेवकों, गैर सरकारी संगठनों इत्यादि का सहयोग लिया जाएगा।
  • वृद्धजनों के बारे में संबंधित बीट कांस्टेबल उनके फोन नंबर, रिश्तेदारों के फोन नंबर आदि सूचना एकत्र कर उनका रिकॉर्ड रखेंगे।
  • बीट कांस्टेबल सप्ताह में एक बार चयनित वरिष्ठ नागरिकों से संपर्क कर उन्हें सुरक्षा संबंधी उपाय बताएंगे। डोर चेन, मैजिक आई व ग्रील लगाने की सलाह देंगे।
  • थाना अधिकारी अपने क्षेत्र में सामाजिक एवं गैर सामाजिक संस्थाओं से संपर्क स्थापित कर वरिष्ठ नागरिकों को होने वाली समस्याओं के बारे में चर्चा करेंगे और निवारण करेंगे।
  • एकांत और दूरदराज के इलाकों में रह रहे वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए नियमित रूप से चैकिंग करेंगे।
खबरें और भी हैं...