पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Spraying Of Sodium Hypo Chloride; Spray With Fire Brigade On Main Markets And Routes, Medical Department's RT PCR Test, House To House Survey Also Released

अजमेर में बढ़ रहा कोरोना संक्रमण:सोडियम हाइपोक्लोराइड का छिड़काव; मुख्य बाजारों व मार्गों पर दमकलों से किया स्प्रे, चिकित्सा विभाग ने की RT-PCR जांच, घर घर सर्वे भी जारी

अजमेरएक महीने पहले
RT-PCR जांच की कतार

अजमेर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर नगर निगम भी सक्रिय हो गई है। नगर निगम ने दमकल वाहनों की मदद से शहर के मुख्य मार्ग, बाजार व चौराहों पर पानी में सोडियम हाइपोक्लोराइड मिलाकर छिड़काव कर सेनिटाइजेशन शुरू कर दिया है। वहीं कोरोना संक्रमितों की पहचान के लिए जगह जगह कैंप लगाकर चिकित्सा विभाग की ओर से जांच की जा रही है। साथ ही घर घर सर्वे कर बुखार, सर्दी व खासी के मरीजों काे चिह्नित कर मेडिकल किट बांटे जा रहे हैं। जिसका दूसरा चरण शुक्रवार को शुरू कर दिया गया।

नगर निगम की ओर से किया जा रहा छिड़काव
नगर निगम की ओर से किया जा रहा छिड़काव

नगर निगम की ओर से रोजाना शहर के विभिन्न हिस्सों में सोडियम हाइपो क्लोराइड का छिड़काव कर सेनिटाइजेशन किया जा रहा है। छिड़काव में अग्निशमन की बड़ी गाड़ियों और जेट पंपों सहित संकरी गलियों के लिए मैनुअल मशीनों का इस्तेमाल किया जा रहा है। वहीं चिकित्सा विभाग की ओर से भी RT-PCR जांच के लिए अलग अलग क्षेत्रों में व्यवस्थाएं की गई है, जहां पर लोग अपनी जांच करा सकते हैं।

चिकित्सा विभाग की ओर से की जा रही जांच
चिकित्सा विभाग की ओर से की जा रही जांच

घर घर सर्वे, दूसरा चरण शुरू, मेडिकल किट बांटे

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए चलाए गए घर-घर सर्वे अभियान के सकारात्मक परिणामों को देखते हुए अभियान का दूसरा चरण शुक्रवार से आरम्भ किया गया। कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने बताया कि जिले में घर-घर सर्वे अभियान चलाया गया था। जिले में बुखार, जुकाम एवं खांसी से पीड़ित व्यक्तियों को घर पर ही उपचार सुलभ करवाया गया। इससे कम व्यक्ति बाहर निकले तथा चिकित्सा केन्द्रों पर गए। इस कारण कोरोना के संक्रमण की रफ्तार में कमी आई। इसके सकारात्मक परिणामों को देखते हुए घर-घर सर्वे अभियान का द्वितीय चरण शुक्रवार से आरम्भ किया गया है।

घर-घर सर्वे अभियान के द्वितीय चरण के लिए स्थानीय स्तर पर दलों का गठन किया गया है। ये दल जिले के प्रत्येक घर पर जाकर परिवार के बीमार व्यक्तियों की जानकारी ले रहे हैं। बुखार, जुकाम एवं खांसी से पीड़ित व्यक्तियों का चिन्हीकरण कर मरीजों को मौके पर ही दवाओं के किट प्रदान किए जा रहे हैं। तैयार किए गए किट में एचसीक्यू(आईवरमेक्टिन), एजिथ्रोमाई सिन (डोक्सी), विटमिन सी, जिंक सल्फेट, पेरासिटामोल, लिवोसिट्रीजिन, पेन्टाडोलोज तथा असल्टामिविर दवाएं हैं।

कैसे रखें ऑक्सीजन लेवल मेंटेन

सर्वे दल द्वारा मरीजों तथा परिजनों को ऑक्सीजन लेवल मैन्टन रखने के बारे में प्रोनिंग के प्रति जागरूक कर रहे हैं। इसके अन्तर्गत चिकित्सकों द्वारा सुझाए गए व्यायाम एवं लेटने के पॉस्चर के बारे में बताया गया। ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए 30 मिनट से 2 घण्टे पेट के बल लेटें। फिर 30 मिनट से 2 घंटे दांयी तरफ (सीधा हाथ नीचे) लेटे। इसके पश्चात आधे घण्टे से 2 घण्टे तक मरीज की सामर्थ्य के अनुसार बैठे रहें। मरीज को इसके बाद में बांयी तरफ लेटकर आधे घण्टे से 2 घण्टे पेट के बल लेटना होगा। प्रोनिंग के दौरान एक तकिया गर्दन के नीचे, एक या दो तकिए छाती और जांघ के ऊपरी हिस्से के बीच तथा दो तकिए पैरों की पिंडलियों के नीचे रखें। भोजन के पश्चात एक घण्टे तक तथा गर्भावस्था में प्रोनिंग से बचना चाहिए। मरीज आरामदायक तरीके से अधिकतम 16 घण्टे तक प्रोनिंग कर सकता हैं।

खबरें और भी हैं...