• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Starting Current Of 25 Thousand Volts In The Lines; The Work Of The Section From Ajmer To Marwar Completed, May Be Tested Anytime This Fortnight

इलेक्ट्रिक लाइन CRS के लिए तैयार:लाइनों में 25 हजार वोल्ट का करंट शुरू; अजमेर से मारवाड तक के खंड का कार्य पूरा, इस पखवाड़े कभी भी हो सकता है परीक्षण

अजमेर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इलेक्ट्रिक वेन ट्रायल। - Dainik Bhaskar
इलेक्ट्रिक वेन ट्रायल।

उत्तर पश्चिम रेलवे की महत्वकांक्षी इलेक्ट्रिक लाइन योजना के तहत अजमेर से मारवाड तक के खंड का कार्य पूरा हो चुका है तथा ब्यावर तक इस लाइन पर इलेक्ट्रिक टेस्टिंग वेन भी चलाकर देखा जा रहा है। वहीं, लाइनों में 25 हजार वोल्ट का प्रवाह शुरू कर दिया गया है।

रेलवे सूत्रों के मुताबिक कमीशन ऑफ़ रेलवे सेफ्टी (CRS) के लिए रेलवे बोर्ड की अनुमति का इंतजार है तथा माना जा रहा है इस पखवाडे में कार्य पूरा हो जाएगा, जिसके बाद कुछ जरूरी औपचारिकता के बाद अजमेर से मारवाड तक इलेक्ट्रिक इंजन की मदद से ट्रेनों का संचालन होगा।

प्रथम चरण में मालगाड़ियों को इलेक्ट्रिक इंजन लगाकर चलाया जाएगा। इसके बाद पैसेंजर ट्रेनों का नंबर आएगा। अब उम्मीद है कि जल्द ही इस ट्रैक पर इलेक्ट्रिक ट्रेन दौड़ेंगी और यात्रियों का समय भी बचेगा। पालनपुर से अजमेर रेलखंड का यह ट्रैक करीब 398 किलोमीटर का है। जिस पर 388 करोड रूपए का बजट लगेगा। अजमेर से पालनपुर के बीच करीब 15 किमी का ट्रैक बचा है जिस पर काम चल रहा है। यह पूरा होने के बाद एक साथ पूरे ट्रैक पर ट्रायल लिया जाएगा और फिर मालगाड़ियां चलेंगी।

दिल्ली-अहमदाबाद वाया जयपुर होते हुए दूरी 866 किलोमीटर है। ऐसे में करीब यह सफर तय करने में करीब 18 घंटे का समय लगता है। यदि अनुमान लगाया जाए तो इलेक्ट्रिक ट्रेनें शुरू होने के बाद यात्री का कम से कम तीन घंटे का समय बचेगा।

जानिए क्या होता है CRS
सीआरएस का मतलब कमीशन ऑफ़ रेलवे सेफ्टी होता है। यह उड्डयन मंत्रालय के अधीन होता है। रेलवे में जब कोई नया काम कंप्लीट होता है, जैसे कि नई रेल, नए रेलवे प्लेटफार्म, स्टेशन, पुल आदि तो उसका पब्लिक इस्तेमाल के पहले सीआरएस के द्वारा जांच की जाती है। जाँच के बाद ही कोई यूज किया जाता है।

ऐसे लगाए जा रहे थिक वेब स्विच
ऐसे लगाए जा रहे थिक वेब स्विच

लाइनों पर लग रहे हैं थिक वेब स्विच
रेलवे द्वारा इलेक्ट्रिक लाइनों के साथ ही ट्रेनों की स्पीड बढाने के लिए सुधार भी तेजी से किए जा रहे है। इसी के तहत जोन में टीडब्ल्यूएस (थिक वेब स्विच) भी लगाए जा रहे हैं। ताकि ट्रेनों को लाइन बदलने के दौरान स्पीड धीमी करने की जरूरत नहीं पड़े।

(रिपोर्ट : मनीष शर्मा)

खबरें और भी हैं...