पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • The Current Phase Of Bisalpur Dam Will Be Finished In December 2021, Preparations For Third Phase Have Not Started Yet

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कैसे बुझेगी अजमेर की प्यास:बीसलपुर बांध का वर्तमान फेज दिसंबर 2021 में हो जाएगा समाप्त, थर्ड फेज की अभी तैयारी तक शुरू नहीं

अजमेर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अभी जिले को रोज 310 एमएलडी पानी की आपूर्ति। - Dainik Bhaskar
अभी जिले को रोज 310 एमएलडी पानी की आपूर्ति।
  • अभी अजमेर के लिए 5 टीएमसी पानी का कोटा, थर्ड फेज में बांध की ऊंचाई बढ़ाने या चंबल से पानी लाने पर करना है निर्णय
  • प्रोजेक्ट को पूरा होने में पांच साल का समय लग सकता है, थर्ड फेज की डीपीआर तैयार होने में ही एक साल लगेगें

(गिरीश दाधीच) अजमेर, जयपुर, टोंक सहित चार जिलों की प्यास बुझाने वाले बीसलपुर बांध का सेकंड फेज दिसंबर 2021 में समाप्त हो जाएगा, बावजूद इसके जलदाय विभाग की ओर से थर्ड फेज के लिए अभी तक कोई तैयारी प्रारंभ नहीं की गई है।
सेंकड फेज के समाप्त होने में एक साल का ही समय बचा है। थर्ड फेज की डीपीआर तैयार होने में एक साल और प्रोजेक्ट को पूरा होने में पांच साल का समय लग सकता है। अभी जिले को रोजाना 310 एमएलडी पानी की आपूर्ति की जाती है, यह पानी 2021 दिसंबर के बाद धीरे-धीरे कम पड़ने लगेगा।

एक वर्ष में जलदाय विभाग मुख्यालय को दो बार एडिशनल चीफ इंजीनियर अजमेर और एडिशनल चीफ इंजीनियर प्रोजेक्ट की ओर से पत्र लिखे गए हैं, लेकिन बात आगे नहीं बढ़ पाई। हाल ही में संभागीय मुख्य अभियंता पद पर अनिल जैन आए हैं। उन्होंने अधिकारियों की मीटिंग में प्रोजेक्ट के बारे में चर्चा कर इसे आगे बढ़ाने की बात कही। संभावना है इसके लिए जल्द ही औपचारिक तैयारियों की शुरुआत हो जाए।

अजमेर जिले का पेयजल कोटा 8.50 टीएमसी तक बढ़ाना जरूरी
इंजीनियरों का मानना है कि जब तक बांध में अजमेर जिले का पेयजल का कोटा नहीं बढ़ाया जाएगा, तब तक थर्ड फेज की कल्पना नहीं की जा सकती। मौजूदा समय में बांध की क्षमता 38.70 टीएमसी है। इसमें 16.20 टीएमसी पेयजल के लिए है। जयपुर एवं टोंक जिले के लिए 11.20 टीएमसी, अजमेर के लिए 5 टीएमसी का कोटा है। सिंचाई के लिए 8.86 टीएमसी पानी दिया जाता है, 8 टीएमसी पानी का वाष्पीकरण हो जाता है। एक अनुमान के मुताबिक फेज-3 में अजमेर जिले का कोटा 8.50 टीएमसी तक बढ़ाया जाना चाहिए।

इन तीन लाइनों से आता है जिले में पानी

  • 1500 एमएम स्टील पाइप लाइन। थड़ौली से नसीराबाद तक रोजाना 200 एमएलडी पानी।
  • 1500 एमएम सीमेंटेड पाइप लाइन। थड़ौली से नसीराबाद तक 40 एमएलडी पानी।
  • 1100 एमएम सीमेंटेड पाइप लाइन। थड़ौली से बघेरा, किशनगढ़, रूपनगढ़, ब्यावर मसूदा आदि जगहों पर 70 एमएल पानी।

2051 तक के लिए बनेगा फेज-3
इंजीनियरों के मुताबिक बीसलपुर का फेज-3 आने वाले 30 सालों यानी 2051 तक के लिए बनेगा। तब तक जिले की अनुमानित जनसंख्या को 40 लाख मानते हुए थर्ड फेज तैयार किया जाएगा। थर्ड फेज में बांध से अजमेर जरूरत के अनुसार पानी लाने के लिए एडिशनल पाइप लाइन डालने, बांध का ऊंचाई बढ़ाने या चंबल से पानी लाने पर विचार किया जाना है। मालूम हो कि अजमेर में पेयजल का मुख्य स्त्रोत बीसलपुर ही है। इसके अलावा कोई बड़ा स्त्रोत पेयजल का नहीं है। बीसलपुर के पहले अजमेर में बुढ़ा पुष्कर, भांवता से पानी की सप्लाई होती थी।

फेज-1 व फेज-2 पर एक नजर
फेज-1 : 1987 में काम प्रारंभ हुआ, 1995 में काम खत्म हुआ। 8 साल में पूरे हुए इस प्रोजेक्ट में 64.67 करोड़ खर्च हुए।
फेज- 2 : 2005 में काम प्रारंभ हुआ, 2011 में काम खत्म हुआ। 6 साल चले इस प्रोजेक्ट की लागत 411.53 करोड़ थी।

बीसलपुर थर्ड फेज की डीपीआर बनाने के फिलहाल आदेश नहीं...

^बीसलपुर थर्ड फेज के लिए जरूरी है कि पहले अजमेर के पानी का कोटा बढ़ाया जाए। इसके लिए बीसलपुर में अतिरिक्त पानी की आवक को भी सुनिश्चित किया जाना है। डीपीआर प्रोजेक्ट एडिशनल चीफ कार्यालय को बनानी है। -अनिल जैन, अतिरिक्त मुख्य अभियंता, जलदाय विभाग, अजमेर संभाग

^बीसलपुर थर्ड फेज की डीपीआर बनाने के फिलहाल आदेश नहीं हैं। इससे पहले हमारी ओर से एक प्रपोजल भेजा गया था। अब वापस इस संबंध में मार्गदर्शन मांगा जा रहा है, ताकि आगे की तैयारियां प्रारंभ की जा सके।
-प्रहलाद पारीक, एसई प्रोजेक्ट, जलदाय विभाग

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser