• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • The District Will Have 209 CHOs; RAS Officers Will Take Care Of Kavid System In Kishangarh And Beawar, Minister In charge Kataria And Medical Minister Reviewed

गांवों में होंगे एंटीजन और RT-PCR टेस्ट:जिले में लगेंगे 209 CHO; किशनगढ़ और ब्यावर में RAS अफसर संभालेंगे काेविड व्यवस्था, प्रभारी मंत्री कटारिया एवं चिकित्सा मंत्री ने की समीक्षा

अजमेर2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रभारी मंत्री कटारिया। - Dainik Bhaskar
प्रभारी मंत्री कटारिया।

कोरोना महामारी संक्रमण से बचाव के लिए अब अजमेर के ग्रामीण क्षेत्रों में भी टेस्ट, ट्रैक और आइसोलेट की रणनीति पर पूरा फोकस रहेगा। ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा विभाग की मोबाइल वैन के जरिए एंटीजन और RT-PCR टेस्ट करवाए जाएंगे ताकि पॉजिटिव मरीजों का तुरंत उपचार शुरू किया जा सके।

खासकर ब्यावर और किशनगढ़ में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए RAS अधिकारियों को चिकित्सालयों में तैनात किया जाएगा। हाल ही में राज्य सरकार की ओर से नियुक्त किए गए 209 कम्युनिटी हेल्थ आफिसर तुरंत जरूरत वाले स्थानों पर लगाए जाएंगे। सभी प्रमुख अस्पतालों में अब ब्लैक फंगस से संबंधित दवाएं भी उपलब्ध रहेंगी।

VC में समीक्षा करते चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा।
VC में समीक्षा करते चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा।

जिले के प्रभारी मंत्री लालचंद कटारिया एवं चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अजमेर जिले में कोरोना महामारी से बचाव के लिए किए जा रहे प्रयासों की समीक्षा की। प्रभारी मंत्री कटारिया ने कहा कि गांवों में कोरोना का संक्रमण बढ़ना बेहद चिंताजनक है। गांवों में संक्रमण की चेन तोड़ने और ग्रामीणों को जागरूक करने के लिए जनजागरण अभियान चलाया जाए। इस अभियान में सीएचसी तथा अन्य निचले स्तर के अस्पतालों में उपचार के लिए आने वाले ग्रामीणों को समझाया जाए कि कोविड महामारी से बचने के लिए क्या सावधानियां जरूरी हैं। इसी तरह उन्हें बीमारी के लक्षण नजर आते ही उपचार के लिए प्रेरित किया जाए ताकि समय पर इलाज मिले और ज्यादा से ज्यादा लोगों को गंभीर अवस्था में आने से पहले ही बचाया जा सके।

कोरोना प्रबंधन की समीक्षा

चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने पूरे अजमेर जिले में कोरोना प्रबंधन के लिए किए जा रहे कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि शहर के साथ-साथ गांवों में भी कोरोना का फैलाव खतरनाक है। शहरी क्षेत्र में मरीज को आसानी से जांच की सुविधा उपलब्ध है, लेकिन गांवों तक पहुंचना अब सबसे बड़ी चुनौती है। इसके लिए गांवों में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए टेस्ट किए जाएंगे। यह वैन प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में प्रतिदिन दस गांवों में घूमेगी। इसके जरिए अधिक संक्रमण वाले इलाकों में एंटीजन टेस्ट किए जाएंगे। एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिव आने वाले रोगियों को तुरंत उपचार शुरू किया जाएगा। जो लोग इसमें निगेटिव आ गए हैं, उनका आरटी-पीसीआर टेस्ट कर सैम्पल लिया जाएगा।

उन्होंने ब्यावर एवं किशनगढ़ में कोविड संक्रमण की गंभीर स्थिति को देखते हुए जिला कलेक्टर को निर्देश दिए कि दोनों शहरों के मुख्य अस्पताल में एक-एक आरएएस अधिकारी को तैनात कर कोविड प्रबंधन की जिम्मेदारी सौंपी जाए। राज्य सरकार ने हाल ही में अजमेर जिले के लिए 209 कम्युनिटी हेल्थ आफिसर्स की नियुक्ति की है। इन्हें तुरंत जरूरत वाले अस्पतालों और सीएचसी में तैनात किया जाए। इसके अलावा भी जहां भी चिकित्सकों या नर्सिंग स्टाफ की कमी है। वहां पर स्टाफ तैनात किया जाए। एमबीबीएस व नर्सिंग अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों को कोविड केयर से संबंधित कामों में तैनात किया जाए।

लगातार हो ऑक्सीजन ऑडिट

चिकित्सा मंत्री ने ऑक्सीजन की उपलब्धता और इसके लिए किए जा रहे प्रयासों की भी समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि अजमेर और नसीराबाद में DRDO के माध्यम से स्थापित होने वाले ऑक्सीजन प्लांट के कार्य के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण व अन्य विभागों के अधिकारियों से तुरंत समन्वय स्थापित कर काम शुरू करवाया जाए। अस्पतालों में ऑक्सीजन ऑडिट लगातार की जाए ताकि इसकी प्रति व्यक्ति खपत को कम कर अन्य जरूरतमंदों के लिए बचाया जा सके। चिकित्सा स्टाफ, मरीज व परिजन को ऑक्सीजन के उपयोग व प्रोनिंग आदि के बारे में समझाया जाए। कोराना के अलावा अन्य बीमारियों के मरीजों के उपचार व ऑपरेशन के लिए भी पर्याप्त इंतजाम रखे जाएं।

तीसरी लहर के लिए रहें तैयार

डॉ. शर्मा ने कहा कि चिकित्सा विशेषज्ञ लगातार तीसरी लहर के आने की चेतावनी दे रहे हैं। हमें इसके लिए पूरी तरह तैयार रहना है। जिले में लघु व दीर्घ अवधि की योजना बना कर काम किया जाए। सभी जिला व सीएचसी स्तर के अस्पतालों के अलावा बच्चों के अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट, बेड, कंसंट्रेटर आदि की सम्पूर्ण व्यवस्था समय रहते कर ली जाए तो हम अपने नागरिकों को बचा पाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य आपदा राहत कोष, विधायक कोष एवं डीएमएफटी योजना के तहत सभी सीएचसी को सभी तरह के उपकरणों से तैयार रखा जाए। विधायक कोष में एक करोड़ रुपए तक की राशि इस काम में ली जा सकती है।

नहीं है मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी

बैठक में चिकित्सा शिक्षा विभाग के सचिव वैभव गालरिया, चिकित्सा सचिव सिद्धार्थ महाजन ने भी सुझाव एवं जानकारी दी। जिला कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने बैठक में अब तक किए गए प्रयासों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जिले में पर्याप्त संख्या में ऑक्सीजन, आईसीयू व वेंटिलेटर बेड उपलब्ध हैं। सरकारी व निजी अस्पतालों में कोविड व अन्य बीमारियों का उपचार उपलब्ध है। जिले में कोविड मरीजों की संख्या स्थिर बनी हुई है। इसमें किसी तरह का अप्रत्याशित उछाल नहीं है।

अन्य सीएचसी पर भी किया जा रहा उपचार

जेएलएन सहित अन्य अस्पतालों व सीएचसी में काेविड बेड आरक्षित कर उपचार किया जा रहा है। बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर कैलाश चन्द्र शर्मा, संयुक्त निदेशक चिकित्सा डॉ. इन्द्रजीत सिंह, सीएमएचओ डॉ. के.के. सोनी, जेएलएन मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. वी.बी. सिंह, अधीक्षक डॉ. अनिल जैन सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...