• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • The Executive Took The Amount From The Customers But Did Not Deposit It With The Auto Company; Case Registered In Ramganj Police Station, Police Engaged In Investigation

धोखाधड़ी कर हड़पे 6 लाख रुपए:एग्जीक्यूटिव​​​​​​​ ने ग्राहकों से ली राशि, लेकिन ऑटो कंपनी में जमा नहीं कराई; रामगंज थाने में मामला दर्ज, पुलिस जांच में जुटी

अजमेर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अजमेर की एक ऑटो कंपनी के सेल्स व कलेक्शन एग्जीक्यूटिव के खिलाफ धोखाधड़ी कर करीब छह लाख रुपए की राशि हड़पने के आरोप में मामला दर्ज कराया गया है। रामगंज थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। आरोप है कि आरोपी ने ग्राहकों से राशि तो वसूल कर ली लेकिन कंपनी में जमा नहीं कराई।

पुलिस के अनुसार, कमल ऑटोफाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड के लॉ ऑफिसर रूपेंद्र सिंह नरुका ने रामंगज थाने में रिपोर्ट देकर बताया कि कंपनी का कार्यालय नारी शाला रोड गद्दी चौराहा अजमेर में है और हेड ऑफिस जीपीओ के सामने एमआई रोड जयपुर में है,जो कि फाइनेंस का कार्य करती है। कंपनी में भगवानगंज अजमेर निवासी अविनाश सिंह सेल्स व कलेक्शन एग्जीक्यूटिव के पद पर कार्य करता था, जिसके द्वारा लोन की फाइलें सैंक्शन करवाकर लोन देना और दिए गए लोन को किस्तों के रूप मे लेकर कंपनी में जमा करवाना था।

5 जुलाई को फाइनेंस कंपनी के ग्राहको से बकाया लोन के तकाजे के लिए सम्पर्क किया तो ग्राहकों ने बताया कि लोन की किस्तों की राशि कंपनी का कलेक्शन एग्जीक्यूटिव अविनाश सिंह ले गया है और रसीद देकर गया है। जिस पर कंपनी द्वारा अविनाश सिंह से पूछने पर उसके द्वारा टाल मटोल करने व स्पष्ट जवाब नहीं मिलने पर जांच की। इस पर पता चला की ग्राहक की किस्त जमा नहीं हुई है, जिस पर कंपनी द्वारा अन्य खातों की जांच करवाई। इस पर पता चला कि यह काम वह काफी समय से कर रहा है और अविनाश सिंह द्वारा जानबूझ कर कंपनी की रसीद बुक में कूटरचित तरीके से फेरबदल करते हुए नगद व् अपने बैंक खाते के माध्यम से ग्राहकों से राशि ली गई।

यह राशि जो कंपनी में जमा होनी चाहिए थी, जो आज दिन तक कंपनी में जमा नहीं हुई है। जिसे अपने पास ही रख कर गबन कर लिया, जो तकरीबन 6 लाख रुपए है। अन्य खातों की जांच अभी चल रही है, भविष्य में उक्त राशि से भी अधिक गबन राशि निकल सकती है। अब अविनाश सिंह कंपनी मे अधिकारियो कर्मचारियों को धमका रहा है कि उसके खिलाफ कोई कार्यवाही की तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहना। हमे डर है कि कही किसी और ग्राहक से वसूली न कर ले। अतः कंपनी में रहते हुए षड़यंत्र रच कर कूट रचित दस्तावेज बनाने, रसीदों में फेरबदल करने, राशि हड़पने व कंपनी व ग्राहकों को अनुचित हानि पहुंचाने पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाए। इस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...