पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • The Team Of Child Welfare Committee Reached The Kovid Ward Without Wearing PPE Suit And Gloves, Also Inspected The General Ward

बड़ी लापरवाही:बिना पीपीई सूट और दस्ताने पहने काेविड वार्ड में पहुंच गई बाल कल्याण समिति की टीम, सामान्य वार्ड का भी कर लिया निरीक्षण

अजमेर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • टीम ने शिशु यूनिट विभागाध्यक्ष और अन्य चिकित्सकों के साथ मीटिंग भी की

बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष अंजलि शर्मा तीन सदस्याें के साथ शनिवार सुबह जेएलएन अस्पताल के शिशु यूनिट का अाैचक निरीक्षण करने पहुंचीं। दौरे की किसी को सूचना दिए बिना टीम सीधे शिशु यूनिट में बने सुपर काेविड वार्ड में पहुंच गई। यहां काेविड वार्ड में भर्ती बच्चाें की स्थिति देखने के साथ ही टीम ने सामान्य वार्डों का भी निरीक्षण कर लिया। इस दौरान बड़ी लापरवाही भी सामने आई। कोविड वार्ड का निरीक्षण करने के दौरान टीम के किसी भी सदस्य ने पीपीई सूट या ग्लब्स नहीं पहन रखे थे। यहां से टीम अस्पताल के सामान्य वार्ड में भी निरीक्षण करने पहुंची। ऐसे में अब संक्रमण फैलने का भी खतरा हो गया है।

आप अंदर कैसे आ गए?
अध्यक्ष अंजलि शर्मा सदस्याें के साथ अधीक्षक डाॅ. अनिल जैन या विभागाध्यक्ष डाॅ. पुखराज से मिले बिना शिशु काेविड वार्ड में पहुंचीं। यहां पर भी उन्हाेंने किसी स्टाफ से बात नहीं की। वार्ड में भर्ती दाेनाें काेविड बच्चाें के पास जाकर परिजन से उनके बारे में चर्चा की। काेविड वार्ड में एक साथ इतने लोगों को देख डयूटी पर माैजूद नर्सिंग स्टाफ वहां पहुंचा। नर्सिंग स्टाफ ने जब कहा कि आप अंदर कैसे आ गए? बताया गया कि ये बाल कल्याण समिति के सदस्य हैं। नर्सिंग टीम ने कहा कि मैडम यह काेविड वार्ड है। जानकारी मिलते ही सभी बाहर आ गए।

जानकारी होने के बाद भी सामान्य बच्चों से क्यों मिली टीम?

बड़ा सवाल यह है कि जब समिति के सदस्याें काे पता चल गया था कि वे बिना पीपीई सूट के काेविड वार्ड में आ गए हैं, ताे बच्चों के सामान्य वार्ड में क्यों गए? इतना ही नहीं, टीम ने शिशु यूनिट विभागाध्यक्ष डाॅ. पुखराज और अन्य चिकित्सकाें के साथ मीटिंग भी कर ली

लापरवाही आई सामने ताे दिए निर्देश | मीडिया ने जब पूछा ताे अध्यक्ष अंजलि शर्मा ने कहा कि उन्हें नहीं पता था कि यह काेविड वार्ड है। यहां प्रशासन काे उन्हाेंने निर्देश दिए हैं कि यहां पर एक गार्ड की व्यवस्था करने के साथ ही सीसीटीवी कैमरे लगाए। बच्चाें के मनाेरंजन के लिए एलईटी टीवी लगाने के साथ कार्टून चैनल की व्यवस्था करें, ताकि उनका मनाेरंजन हाे सके।

टीम ये शामिल | अध्यक्ष अंजलि शर्मा के अलावा तबस्सुम बानाे, राजलक्ष्मी व अरविंद मीणा साथ थे। चिकित्सकाें ने फाेन ही नहीं उठाया | अध्यक्ष अंजलि शर्मा ने ‘भास्कर’ को बताया कि यहां अाने के बाद उन्हाेंने चिकित्सकाें काे फाेन किया, लेकिन फाेन रिसीव ही नहीं किया गया। इसी कारण सीधे ही वार्ड में चली गईं।

यह राहत की बात...दाे बच्चाें को मिली छुट‌्टी
जेएलएन के शिशु वार्ड में भर्ती दाे काेविड संक्रमित बच्चाें काे छुट‌्टी दे दी गई। दाेनाें बच्चाें का स्वास्थ्य ठीक है। अभी काेविड वार्ड में 2 साल की बच्ची व 12 साल का बच्चा भर्ती है।
‘दैनिक भास्कर’ में समाचार प्रकाशित ताे अस्पताल पहुंचे
जेएलएन के शिशु वार्ड में काेविड संक्रमित बच्चे भर्ती हैं। दैनिक भास्कर ने इस मामले काे लेकर शनिवार के अंक में ही समाचार प्रकाशित किया था। समाचार प्रकाशन हाेने के बाद बाल कल्याण समिति ने यहां अाने का निश्चय किया। यहां आने के बाद उन्हाेंने मामले की जानकारी ली।

सभी तैयारी समय पर पूरी हो जाएं
बाल संरक्षण आयोग की टीम ने मीटिंग के बाद विभागाध्यक्ष डॉ. पुखराज गर्ग को कहा कि जिस प्रकार वे कोविड संक्रमित वार्ड में चले गए हैं, इसी प्रकार अन्य भी जाने-अनजाने अंदर जा सकते हैं। अध्यक्ष अंजलि शर्मा ने कहा कि कोविड वार्ड के बाहर एक गार्ड की नियमित ड्यूटी लगाई जाए जाए। यह तय करें कि वार्ड में आने वाले व्यक्ति ने हाथ व शरीर को सेनिटाइज्ड किया है या नहीं। तीसरी लहर को देखते हुए बच्चों के इलाज के लिए सभी तैयारियां समय पर पूरी कर ली जाएं।

खबरें और भी हैं...