पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना संकट:कोरोना से जिस महिला के 90% फेफड़े खराब हो गए, उसे 130 दिन बाद स्वस्थ कर घर भेजा

अजमेर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
130 दिनों बाद स्वस्थ होकर जेएलएन अस्पताल से डिस्चार्ज हुईं 53 वर्षीया लाजवंती। - Dainik Bhaskar
130 दिनों बाद स्वस्थ होकर जेएलएन अस्पताल से डिस्चार्ज हुईं 53 वर्षीया लाजवंती।
  • 28 अप्रैल को कोरोना की चपेट में आने के बाद 6 मई को हुई थी जेएलएन में भर्ती, 75 दिनों तक बाइपेप पर भी रहीं

जेएलएन अस्पताल के चिकित्सकों ने कोरोना संक्रमण के बाद जिंदगी-मौत से जूझने वाली एक महिला को 130 दिनों बाद रविवार को पूर्ण स्वस्थ कर घर भेजा। महिला ने चिकित्सा टीम को दुआओं और आशीर्वाद देते हुए अस्पताल से विदाई ली। इस महिला मरीज के 90 प्रतिशत से ज्यादा फेफड़े खराब हो गए थे, मगर ना मरीज ने हिम्मत हारी, ना चिकित्सकों ने कोशिश करने में कोई कमी-कसर छोड़ी। धोलाभाटा 53 वर्षीय लाजवंती 28 अप्रैल 2021 को कोरोना संक्रमित हो गई थी, तबियत नासाज होने पर इन्हें 6 मई 2021 को जेएलएन में भर्ती करवाया गया था, तब इनके फेफड़े 60 प्रतिशत तक खराब थे, बाद में इनकी तबियत बिगड़ती चली गई और फेफड़े 90 प्रतिशत तक फेफड़े खराब हो गए। श्वास लेने में तकलीफ होने पर इन्हें 75 दिनों तक बाइपेप मशीन पर भी रखा गया, बाद में नॉर्मल ऑक्सीजन पर रखा गया। इसके बाद 2-2 घंटे ऑक्सीजन हटाकर देखा गया और नार्मल किया। रविवार को महिला को 130 दिनों बाद अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया।

हिम्मत नहीं हारी, स्टाफ ने पूरा ख्याल रखा : लाजवंती

लाजवंती ने बताया कि उन्होंने कोरोना संक्रमित होने के बाद भी हिम्मत नहीं हारी, अस्पताल स्टाफ ने भी उनका पूरा ख्याल रखा। तबियत में होने वाले सुधार के बारे में उन्हें रोज बताया जाता, जिससे उनका मनोबल बढ़ता चला गया और उनकी तबियत दिनों दिन सुधरती चली गई। यह उनका दूसरा जीवन है।

यह टीम जुटी रही जेएलएन मेडिकल कॉलेज के अतिरिक्त प्राचार्य डॉ. संजीव माहेश्वरी, कोविड नोडल अधिकारी डॉ. अनिल जैन, यूनिट हेड डॉ. राजेश जैन, डॉ. हरदीप मीणा, डॉ. पिंकी टांक, डॉ. सागर शर्मा, डॉ. नरेंद्र प्रजापति, डॉ. आकाश जैन, डॉ. मोहम्मद रियाज सहित अन्य डॉक्टरों की टीम इनके उपचार में जुटी रही।

खबरें और भी हैं...