पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गिरफ्तार:10 लाख परिचिताें के खाते में ट्रांसफर किए, बैंक अधिकारी गिरफ्तार

अजमेर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • उधार की राशि का भुगतान नहीं करने पर उसके खिलाफ जयपुर में मुकदमा दर्ज हुआ था

एसबीअाई माखुपुरा शाखा में ग्राहकाें के खाताें में हेराफेरी कर दस लाख रुपए निकालने के मामले में पुलिस ने जांच के बाद बैंक के असिस्टेंट मैनेजर मुरलीपुरा स्कीम सीकर रोड जयपुर निवासी हेमंत कुमार शर्मा काे गिरफ्तार कर लिया। आदर्शनगर थाना प्रभारी सुगन सिंह के अनुसार आराेपी ने बैंक के 15 खातेदाराें के करीब दस लाख रुपए निकाल कर अपने परिचिताें के खाते में डाल दिए थे। प्रारंभिक ताैर पर तफ्तीश में सामने आया है कि आराेपी शर्मा ऑनलाइन सट्टा और शेयर काराेबार में फंसा हुआ था। इसमें उसके लाखाें रुपए डूबे हुए थे, यही कारण है कि उसने चीटिंग का रास्ता अपना लिया।

थाना प्रभारी सुगन सिंह ने बताया कि 20 अप्रैल काे एसबीआई बैंक माखुपुरा शाखा प्रबंधक अभिजीत कुमार ने शिकायत दर्ज कराई थी कि बैंक में असिस्टेंट मैनेजर के पद पर कार्यरत हेमंत कुमार ने ग्राहकाें के खाताें से करीब 10 लाख रुपए की राशि अवैध रूप से अपने परिचिताें के खाताें में ट्रांसफर कर गबन किया है। एसपी जगदीश चंद्र शर्मा, एडिशनल एसपी सीताराम प्रजापत के निर्देशन में पुलिस टीम ने जांच की। आराेपी हेमंत ने बैंक के 15 खाताें से राशि पार की थी। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

सट्टा शाैक के कारण बना घाेटालेबाज

पुलिस के अनुसार तफ्तीश में सामने आया कि आराेपी हेमंत कुमार ऑनलाइन सट्टे, शेयर बाजार में शुरुआत में माेटी राशि मुनाफे के ताैर पर कमाने के कारण इसमें फंसता गया और बाद में करीब 30 लाख रुपए से ज्यादा की राशि वह गंवा बैठा। उसने करीब 20 लाख रुपए की राशि उधार ली और करीब बीस हजार रुपए महीना बताैर ब्याज का भुगतान उसे करना हाेता था। उधार की राशि का भुगतान नहीं करने पर उसके खिलाफ जयपुर में मुकदमा दर्ज हुआ था। कर्ज चुकाने के लिए ही उसने बैंक ग्राहकाें के खाते से दस लाख रुपए पार किए थे। पुलिस आराेपी के बयान के आधार पर सट्टे के बुकी की भी तलाश कर रही है।

खबरें और भी हैं...