पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Two Young Women Caught Also Told Themselves To Be Victims Of Blackmailing; Lawsuit Filed, Police Engaged In Investigation

रेमडेसिविर की कालाबाजारी में दो युवतियां गिरफ्तार:पुलिस ने पकड़ा तो बोलीं- कोविड पॉजिटिव माता-पिता अस्पताल में भर्ती हैं, हम तो खुद ब्लैकमेलिंग का शिकार, फिर मुकदमा दर्ज कराया

अजमेरएक महीने पहले
अजमेर में रेमडेसिविर की कालाबाजारी के शक में पकड़ी गई दो युवतियां।

कोरोना के इलाज में इस्तेमाल होने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन की रोजाना देश भर में कालाबाज़ारी की खबरें सामने आ रही हैं। इस बीच शुक्रवार रात ऐसा ही एक मामला अजमेर में सामने आया। यहाँ पुलिस ने 4 हजार कीमत के रेमडेसिविर इंजेक्शन को 23 हजार रुपये में बेचने के शक में दो युवतियों को पकड़ा। इस बीच, पुलिस गिरफ्त में आई दोनों युवतियों ने उल्टा खुद को ही मामले में ब्लैकमेलिंग का शिकार बताते हुए FIR दर्ज कराई है।

आरोप... लगी हुई थीं सौदेबाजी में

मामले में पुलिस को युवतियों की शिकायत करने वाले परिवादी आशीष सोनी ने बताया कि शुक्रवार को एक परिचित संक्रमित की पत्नी उसके पास रोते हुए रेमडेसिविर के लिए रुपये उधार लेने आई। महिला ने बताया कि उसके पति की जान बचाने के लिए इंजेक्शन की जरूरत है। महिला ने एक मोबाइल नंबर के बारे में भी जानकारी दी, उसे किसी ने यह नंबर दिया था। इनके पास इंजेक्शन है, लेकिन 25 हजार मांग रही हैं।

23 हजार कीमत

सोनी ने महिला से मोबाइल नंबर लेकर कॉल किया, तो वहां से एक महिला ने बात की। रेट कम करने को कहा तो उसने कहा कि 23 हजार से कम में इंजेक्शन नहीं मिल सकता। सोनी ने 3 इंजेक्शन की जरूरत बताते हुए सौदा पक्का कर लिया। उस महिला ने पहले सोनी को स्वामी कॉम्प्लेक्स के निकट और बाद में अजमेर क्लब के पास बुलाया। यहां कार में सवार भूमिका और प्रियंका इंजेक्शन लेकर पहुंची थीं। सोनी ने मौका देखकर कार का गेट खोल कर उनके कब्जे से 3 इंजेक्शन बरामद कर लिए और पुलिस को बुला लिया।

सफाई... ब्लैक में ख़रीदे थे इंजेक्शन

कोटड़ा निवासी भूमिका और प्रियंका को एनजीओ कार्यकर्ता आशीष सोनी की सूचना पर पुलिस ने पकड़ा था। युवतियों के पास से 3 रेमडेसिविर इंजेक्शन भी बरामद हुए थे। पुलिस को दिए बयान में दोनों बहनों ने खुलासा किया है कि उनके माता-पिता भी कोरोना से संक्रमित हैं। पिता जेएलएन अस्पताल में और माता पुष्कर रोड स्थित मित्तल अस्पताल में भर्ती हैं। इसके लिए उन्होंने खुद जयपुर के एक एमआर से ब्लैक में ये इंजेक्शन खरीदे थे। इसके बाद दोनों ने भी खुद के ब्लैकमेलिंग के शिकार होने की पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करा दी। पुलिस अब दोनों एंगल से जांच में जुटी है।

खबरें और भी हैं...