• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Villagers Forced To Pass Through Running Water With The Help Of Rope; Loss Of Contact, Trouble In Transporting Sick, Exercise To Make Way With The Help Of JCB

बीमार को कंधों पर उठाकर नदी पार कराई:बरसात से बही पुलिया के बाद हालात हुए विकट; सम्पर्क टूटा, जेसीबी की मदद से पैदल आने जाने के लिए रास्ता बनाने की कवायद शुरू

अजमेरएक वर्ष पहले

अजमेर के भांवता ग्राम पंचायत के मजीतिया ग्राम में बीते दिनों हुई बरसात में बही पुलिया की परेशानी तीन दिन बाद भी ग्रामीणों के लिए बरकरार है। बरसात के बाद आनासागर के खोले गए गेट के कारण पानी का बहाव रूका नहीं है और ग्रामीणों को बहते पानी के बीच से रस्सी के सहारे नदी पार करनी पड़ रही है। दो दिन पहले बीमार को भी बड़ी मुश्किल से उपचार के लिए लेकर गए। हालाकिं अब प्रशासन ने जेसीबी की मदद से अब पैदल निकलने के लिए रास्ता बनाने की कवायद शुरू की है लेकिन ग्रामीणों का कहना है कि यह बरसात में कारगर नहीं होगा।

ग्रामीण और अजमेर जिला यूथ कांग्रेस के महासचिव रजनीश गुर्जर ने बताया कि अभी चार दिन पहले हुई बरसात में गांव को जोड़ने वाली एक मात्र पुलिया बह गई। इससे इधर वाले इधर और उधर वाले उधर रह गए और सम्पर्क टूट गया। इस दौरान दो दिन पहले एक बीमार को ले जाने के लिए भी रस्सी के सहारे लोग नदी में उतरे और बड़ी मुश्किल से उसे अस्पताल लेकर गए। वहीं वाहन आदि नहीं ले जाए जा सकते। इसके बाद प्रशासन ने अब जेसीबी की मदद से यहां पैदल निकलने के लिए रास्ता बनाने की कवायद शुरू की है लेकिन यह भी अस्थाई ही है। अगर इस दौरान बरसात तेज आ गई तो हालात फिर से वैसे ही हो जाएंगे।

इसलिए भी हो रही समस्या

गुर्जर ने बताया कि आनासागर झील से पानी की निकासी के लिए गेट खोले गए है और इसका पानी डूमाड़ा होता हुआ मजितियां से भावता जा रहा है। इस पानी की लगातार आवक हो रही है। ऐसे में जेसीबी की मदद से किया गया उपाय भी ज्यादा कारगर होगा, यह कहा नहीं जा सकता। प्रशासन को चाहिए कि ग्रामीणों के आने जाने के लिए कोई स्थाई व्यवस्था की जाए।

खबरें और भी हैं...