• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • When He Was Interrupted By Drinking Alcohol, The Miscreants Beat Him Up, The Incident Took Place At The Main Gate Of The Police Line, The Soldier Was Admitted To The Hospital

थाने में तैनात कॉन्स्टेबल पर हमला:शराब पीने से टोका तो बदमाशों ने की मारपीट, पुलिस लाइन के मेन गेट पर हुई वारदात, सिपाही हॉस्पिटल में भर्ती

अजमेर8 महीने पहले
उपचाररत कांस्टेबल। - Dainik Bhaskar
उपचाररत कांस्टेबल।

अजमेर में सोमवार देर रात गंज थाने में तैनात कॉन्स्टेबल पर बदमाशों ने हमला कर जख्मी कर दिया। पड़ताल में आया कि कॉन्स्टेबल ने हमलावरों को गली के नुक्कड़ पर शराब का सेवन करने पर टोका था। उसका ठोकना आरोपियों को नगवार गुजरा। जख्मी कॉन्स्टेबल को देर रात निजी हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है। वहीं पुलिस ने देर रात दो जनों को हिरासत में भी लिया है।

कॉन्स्टेबल से मारपीट के बाद सूचना पर पहुंचे अधिकारी
कॉन्स्टेबल से मारपीट के बाद सूचना पर पहुंचे अधिकारी

गंज थाने में तैनात कॉन्स्टेबल सुमेर सिंह सोमवार रात अपनी बाइक से घर लौट रहा था। पुलिस लाइन के मुख्य द्वार के सामने गली के नुक्कड़ पर शराब का सेवन कर रहे युवकों को सुमेर सिंह ने रिहायशी इलाका छोड़कर बैठने की नसीहत देकर आगे बढ़ गया। तभी अचानक कुछ युवकों ने उस पर हमला कर दिया। बदमाशों ने बेसबॉल के डंडे से उसे बुरी तरह से जख्मी कर दिया। वारदात के बाद आरोपी फरार हो गए। जख्मी कॉन्स्टेबल को उपचार के लिए जेएलएन हॉस्पिटल पहुंचाया। मामले की सूचना पर एएसपी विकास सांगवान, सीओ दरगाह पार्थ शर्मा, कोतवाली थानाधिकारी शमशेर खान, सिविल लाइन थाना अधिकारी अरविंद चारण, गंज थाना अधिकारी धर्मवीर सिंह और दरगाह थाना अधिकारी दलबीर सिंह पहुंचे। देर रात प्राथमिक उपचार के बाद कॉन्स्टेबल को निजी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। मामले में एएसपी विकास सांगवान ने कहां कि कॉन्स्टेबल ड्यूटी से घर लौट रहा था इस दौरान उसके साथ बदमाशों ने मारपीट की है। आरोपियों की तलाश की जा रही है। हमले के कारणों की भी पड़ताल की जा रही है।

कॉन्स्टेबल सुमेर सिंह का पैर हुआ फ्रैक्चर
कॉन्स्टेबल सुमेर सिंह का पैर हुआ फ्रैक्चर

अपराधियों में नहीं पुलिस का कोई खौफ

पुलिस लाइन के मुख्य द्वार पर कॉन्स्टेबल पर हुए हमले ने साबित कर दिया है कि अपराधियों में पुलिस का खौफ नहीं है। वारदात के समय कई पुलिस वाले मौजूद थे। ऐसे में पुलिस ही सुरक्षित नहीं तो आमजन कैसे सुरक्षित रहेगा।