अजमेर के नए एसपी विकास शर्मा:बच्चे, महिलाओं और बुजुर्गों के प्रति संवेदनशीलता बरतेंगे, अपराधियाें पर कसी जाएगी नकेल : शर्मा

अजमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नव नियुक्त जिला पुलिस अधीक्षक आईपीएस विकास शर्मा का कहना है कि वृद्धजन, बच्चों तथा महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों की रोकथाम के लिए प्राथमिकता से काम करेंगे। शांति व कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए हरसंभव कार्रवाई की जाएगी। आमजन में पुलिस के प्रति विश्वास कायम करने के लिए अपराधियाें की नकेल कसी जाएगी।

उनकी प्राथमिकता है कि आमजन में पुलिस के प्रति विश्वास कायम हाे और अपराधियाें में पुलिस का खाैफ हाेना चाहिए। उल्लेखनीय है कि भीलवाड़ा में एसपी के कार्यकाल के दाैरान आईपीएस शर्मा ने मादक पदार्थ तस्कराें की फायरिंग में दाे कांस्टेबलाें की माैत के मामले में सात दिन में न केवल हमलावराें काे गिरफ्तार किया था, बल्कि मादक पदार्थ तस्करी के अंतरराज्यीय नेटवर्क में शामिल कुख्यात अपराधियाें काे भी उजागर किया था।

इसके अलावा शर्मा की प्राथमिकता बजरी और शराब तस्करी पर भी अंकुश लगाने की है। आईपीएस विकास शर्मा ने बताया कि राज्य सरकार की प्राथमिकता है कि महिला, बच्चों तथा बुजुर्गों के खिलाफ अपराधाें पर अंकुश लगे और ऐसी आपराधिक घटनाओ में संवेदनशीलता से कार्रवाई कर पीड़िताें काे सुरक्षा और न्याय दिलाया जाए। अपराधियाें के खिलाफ त्वरित कार्रवाई हाे। इस प्राथमिकता के आधार पर काम किया जाएगा।

महिला सुरक्षा के लिए मोबाइल एप आवाज दाे का प्रभावी तरीके से जनजागरण कर महिलाओं बुजुर्गों और बच्चों तक पहुंचाया जाएगा। नवनियुक्त एसपी विकास शर्मा ने बताया कि अवैध खनन और परिवहन करने वाले तत्व तथा भू माफियाओं पर कड़ी कार्रवाई हाेगी। इसके लिए विशेष टीम का गठन करेंगे और अधिकारियाें और पुलिस कर्मियाें की जवाबदेही भी तय की जाएगी।

विकास कुमार शर्मा पूर्व में जालौर, जैसलमेर, पाली और भीलवाड़ा में तैनात रहे हैं। भीलवाड़ा में उन्होंने अवैध शराब काराेबार पर अंकुश लगाने में कामयाबी हासिल की थी। 2010 के बैच से पास आउट आईपीएस विकास शर्मा की पहली पोस्टिंग एएसपी पाली ग्रामीण के रूप में हुई थी। इसके बाद वे एएसपी सिटी सेंट्रल जोधपुर पद पर स्थानांतरित हुए ।

इसके बाद वे जैसलमेर एसपी नियुक्त हुए। जालौर और भीलवाड़ा जिला पुलिस अधीक्षक के पद पर रहते हुए उन्हाेंने सकारात्मक पुलिसिंग पर जाेर दिया है। सकारात्मक पुलिसिंग के लिए चर्चा में रहे एसपी जगदीश चंद्र शर्मा | जिला पुलिस अधीक्षक पद पर दस माह के अल्प कार्यकाल में आईपीएस जगदीश चंद्र शर्मा ने सकारात्मक पुलिसिंग और नवाचार कर आमजन में पुलिस की स्वच्छ और सजग छवि काे काबिज करने में कामयाबी हासिल की है।

शर्मा के कार्यकाल में जिले में हत्या, रेप और अन्य अपराधिक वारदाताें में से ज्यादातर का खुलासा 24 घंटे से लेकर सात दिन के भीतर किया गया। रेप, डबल मर्डर मामलाें में शर्मा के निर्देश पर जांच अधिकारियाें ने सात दिन से लेकर एक माह के भीतर अनुसंधान पूरा कर अदालत में चार्जशीट पेश करने की कार्रवाई शुरू की है।

अलवर गेट थाना इलाके में गुलाबबाड़ी में वृद्ध दंपती की हत्या, आशागंज इलाके में खानाबदाेश महिला से रेप के बाद हत्या, रामगंज इलाके में गुजरात की युवती से रेप की वारदात के मामलाें में एसपी शर्मा के निर्देश पर पुलिस ने त्वरित अनुसंधान कर अदालत में चार्जशीट पेश की।

खबरें और भी हैं...