• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Withdraw 10 Thousand Rupees From SBI ATM; On Coming To Know, The Manager Got The FIR Done, The Police Engaged In The Investigation Of The Matter.

ATM से छेड़छाड़ कर ठगी:SBI के ATM से निकाले 10 हजार रुपए; पता चलने पर मैनेजर ने कराई FIR, पुलिस मामले की जांच में जुटी

अजमेर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिंबोलिक इमेज। - Dainik Bhaskar
सिंबोलिक इमेज।

बैंक के ATM के साथ छेड़छाड़ कर रुपए विड्रोल करने का एक मामला सामने आया है। अजमेर जिले के मदनगंज थाने में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के मैनेजर ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कराया। आरोपी ने दस हजार की ठगी की। पुलिस ने मामले दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

मदनगंज CI मनीषसिंह ने बताया कि स्टेट बैंक आफ इंडिया की मदनगंज शाखा के मैनेजर ने रिपोर्ट देकर बताया कि बैंक के एटीएम से छेड़छाड़ कर 10 हजार रुपए की अवैध निकासी कर ली गई। बैंक मैनेजर के अनुसार यह राशि एक बार में ही निकाली गई। पुलिस ने मामले दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

अजमेर में पकड़े गए आरोपियों की फाइल फोटो
अजमेर में पकड़े गए आरोपियों की फाइल फोटो

पहले भी पकड़ा जा चुका है ऐसा गिरोह

एसबीआई बैंक शाखा लोको वर्कशॉप अजमेर और डिग्गी बाजार स्थित एसबीआई के एटीएम से भी ऐसे ही निकासी की गई। इस मामले में पुलिस ने गत वर्ष आरोपी नकनपुर पुलिस थाना पुन्हाना जिला नूह मेवात हरियाणा निवासी तोफिक मेव, लुहिंगा कला पुलिस थाना पुन्हाना जिला नूह मेवात हरियाणा निवासी मोहम्मद शकील, लुहिंगा पुलिस थाना पुन्हाना जिला नूह मेवात हरियाणा निवासी अजीज मेव, बिसरू पुलिस थाना बिच्छोर जिला नूह मेवात हरियाणा निवासी सलमान खान को गिरफ्तार किया था।

इस तरह से देते थे वारदात अंजाम

  • पुलिस पूछताछ में पता चला है कि ये समुह में स्वयं की गाडी लेकर आते है। बैंक की छुट्टी के दिन अथवा बैंक बन्द होने के बाद अथवा जिन एटीएम मशीनों पर गार्ड नही होते है, उन एटीएम मशीनों पर वारदात अंजाम देते थे।
  • दिन में भी एटीएम मशीन पर रूपये निकालते समय रुपये मशीन में ही रखकर अथवा मशीन की पॉवर केबिल/ नेटवर्क केबल तोडकर अथवा बटन ऑफ कर मशीन को आउट ऑफ सर्विस कर उक्त रूपये निकालकर बैंक में रूपये नहीं निकलने की शिकायत कर पुनः रूपये प्राप्त कर बैंक के साथ धोखाधड़ी करते है।
  • सम्बन्धित बैंक को शिकायत प्राप्त होने पर बैंक कर्मचारी जब सीसीटीवी फुटेज देखकर पता लगाने की कोशिश करते, तब तक ये लोग शहर छोडकर वापस चले जाते है।
  • या फिर एक व्यक्ति यहीं पर रूककर अखबार, न्यूज वगैरह देखता रहता है कि किसी थाने पर एफआईआर दर्ज हुई है अथवा नही। यदि इस प्रकार की कोई एफआईआर किसी थाने पर दर्ज नही होती है तो कुछ दिनों बाद पुनः आकर वारदात करते है।