पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना की दूसरी:दिनभर सुलगे मरघट, रात में भी दहकीं चिताएं

अजमेर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चिकित्सा विभाग ने रविवार को जिलेभर में केवल 5 की मौत की सूची जारी की, जबकि अजमेर के पहाड़गंज मुक्तिधाम में ही 5 काेराेना संक्रमित शवाें का अंतिम संस्कार हुआ। - Dainik Bhaskar
चिकित्सा विभाग ने रविवार को जिलेभर में केवल 5 की मौत की सूची जारी की, जबकि अजमेर के पहाड़गंज मुक्तिधाम में ही 5 काेराेना संक्रमित शवाें का अंतिम संस्कार हुआ।
  • ऐसी तस्वीरें डरावनी हैं, लेकिन, जिम्मेदारों के झूठ को दिखाना जरूरी

अजमेर में कोरोना संक्रमण कहर बनकर टूट रहा है। रविवार को जिलेभर में 41 कोरोना मरीजों की मौत हुई, वहीं 435 नए पॉजिटिव सामने आए। कोरोना की दूसरी लहर कितनी ज्यादा घातक साबित हो रही है, इसका अंदाजा इसी से लगता है कि पिछले 72 घंटे में ही 119 कोरोना मरीज दम तोड़ चुके हैं। इससे भी डरावना चिकित्सा विभाग का झूठ है जो वह लगातार बोल रहा है। चिकित्सा विभाग की ओर से रविवार को जारी सूची में केवल 5 की मौत होना बताया गया, जबकि जिलेभर में 41 मरीजों की माैत हुई। पिछले 72 घंटे में 119 की मौत हुई है, जबकि चिकित्सा विभाग की सूची के अनुसार यह संख्या मात्र 14 ही है। अब तक कोरोनाकाल में कुल 704 मरीजों की मौत हो चुकी है, वहीं 35,288 मरीज सामने आए हैं।

शहर में ही 19 संक्रमितों का अंतिम संस्कार
अजमेर शहर में रविवार को 5 मुक्तिधामों में 19 कोरोना संक्रमितों का अंतिम संस्कार हुआ। इसमें से गढ़ी मालियान मुक्तिधाम में 4, ऋषि घाटी में 6, पहाड़गंज में 5, आदर्शनगर में 2 और मदार मुक्तिधाम में 2 का अंतिम संस्कार हुआ। वहीं ब्यावर में 7, नसीराबाद में 2, केकड़ी में 5, सरवाड़ में 1, किशनगढ़ में 5, पीसांगन में 1 और अरांई में 1 कोरोना संक्रमित की रविवार को उपचार के दौरान मौत हो गई।

चिंताजनक... अभी 30% से भी कम मरीज हो रहे डिस्चार्ज
चिकित्सकाें व रेजीडेंट की टीम दिन-रात इलाज में जुटी

जेएलएन अस्पताल में रविवार को 24 घंटे में ही भर्ती 525 गंभीर मरीजों की संख्या 581 तक पहुंच गई। हालात ऐसे हैं कि जेएलएन में अब केवल क्रिटिकल मरीजों काे ही भर्ती किया जा रहा है। 581 में से 535 मरीज की स्थिति बेहद ही गंभीर हैं। कुल मरीजों में से 92.08% वेंटिलेटर, ऑक्सीजन या अन्य जीवनरक्षक मशीन के सहारे हैं। सबसे गंभीर बात यह है कि जेएलएन में नए भर्ती होने वाले मरीजों की तुलना में डिस्चार्ज होने वालों की संख्या 30% से भी कम है।

जेएलएन में लगे सीनियर चिकित्सकों व रेजीडेंट की टीम बीते एक माह से काेविड मरीजों काे बचाने में लगी हुई है। इस दौरान कई रेजीडेंट व नर्सिंग पॉजिटिव हाे चुके हैं। रेजीडेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष डाॅॅ. गोवर्धन सैनी पॉजिटिव हाेने के 15 दिन बाद ही वापस काम पर लाैट आए। मेडिसिन यूनिट के विभागाध्यक्ष डाॅ. संजीव माहेश्वरी व डाॅ. अनिल सामरिया के साथ पूरी टीम का फाेकस कोरोना मरीजों पर है।

नहीं पहुंचे ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर| जेएलएन अस्पताल काे रविवार काे मिलने वाले 250 ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर जयपुर से देर शाम तक अजमेर नहीं पहुंच सके। इन कंसेंट्रेटर के आने के बाद मरीजों काे काफी राहत मिलेगी।

जेएलएन अपडेट : ऑक्सीजन और वेंटिलटेर लगे सभी बेड फुल

535 मरीज ऑक्सीजन व वेंटिलेटर पर हैं।

90.08% गंभीर हैं कुल भर्ती मरीजों में।

70 नए एडमिशन, 31 काे डिस्चार्ज किया
जेएलएन अस्पताल में रविवार शाम तक 581 कोविड मरीज भर्ती थे। काेविड के जनरल वार्ड में 46 बेड हैं, जिनमें से 40 पर मरीज भर्ती हैं, 6 बेड खाली हैं। वहीं, सभी 365 ऑक्सीजन बेड फुल हैं। इनमें से 70 नए एडमिशन रविवार काे, जबकि 31 काे डिस्चार्ज किया गया। आईसीयू विथ वेंटिलेटर के 80 बेड हैं, सभी फुल चल रहे हैं। इनमें 3 नए मरीज एडमिट हुए जबकि 7 डिस्चार्ज किए गए। वहीं, आईसीयू विदाउट वेंटिलेटर में 90 बेड हैं, यहां 3 एडमिशन किए गए जबकि 1 काे डिस्चार्ज किया।

जिले में काेविड अस्पतालों की स्थिति

  • जिले में काेविड के लिए 396 जनरल बेड आरक्षित। इनमें से 221 पर मरीज हैं, जबकि 175 खाली हैं।
  • ऑक्सीजन वाले 936 बेड्स हैं, इनमें 935 पर मरीज हैं, एक बेड खाली है।
  • आईसीयू विदाउट वेंटिलेटर वाले 165 बेड्स में से 164 पर मरीज हैं, जबकि एक बेड खाली है।
  • आईसीयू वेंटिलेटर के 133 बेड्स में से सभी फुल हैं।
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें