पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Youm e Ali Will Be Celebrated Tomorrow; Given The Corona Infection, There Will Be No Gathering In The Dargah, Only Fatiha Khwani

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अजमेर ख्वाजा साहब की दरगाह:यौम-ए-अली कल मनाया जाएगा; कोरोना संक्रमण को देखते हुए दरगाह में महफिल नहीं,  केवल फातिहा ख्वानी होगी

अजमेर2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अजमेर दरगाह - Dainik Bhaskar
अजमेर दरगाह

रमजान के मुबारक महीने की मंगलवार को 21 तारीख है। पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब के दामाद हजरत सैयदना अली की यौमे शहादत का दिन है । इसी मुनासिबत से हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह में यौमे अली मनाया जाएगा। कोरोना संक्रमण के चलते इस बार महफिल और सामूहिक रोजा इफ्तार के आयोजन नहीं होंगे। केवल फातिहा ख्वानी होगी ।

अंजुमन सैयदजादगान के सचिव सैयद वाहिद हुसैन अंगाराशाह ने बताया कि 21 वें रोजे को हर साल असर की नमाज के बाद दरगाह के अहाता ए नूर में महफिल होती है। लेकिन इस बार दरगाह शरीफ में जायरीन का प्रवेश निषिद्ध है। सरकार की गाइडलाइन की पालना करते हुए केवल रस्म अदा की जाएगी। हर बार की तरह इस बार सामूहिक रोजा इफ्तार भी नहीं होगा। केवल तबर्रुक पर नियाज दिला कर तकसीम कर दिया जाएगा।

आखरी अशरा
सुन्नी दावते इस्लामी अजमेर के निगरां मौलाना मोईनुद्दीन रिजवी ने बताया कि 21 रमज़ानुल हज़रते अली कर्रमल्लाहु वज्हूल करीम की शदादत की शब है। नबी ए करीम ने फरमाया शबे क़द्र को माहे रमज़ान की आखिरी दस दिनों में तलाश करो। इक्कीस, तेईस, पच्चीस, सत्ताइस और उनत्तीस, इन रातों में से एक रात शबे क़द्र है । लिहाजा शबे क़द्र में इबादत करने वाले को एक हज़ार रात इबादत का सवाब मिलता। जो दुआ अल्लाह से की जाती है वोह क़ुबूल होती। तमाम अकीदतमंद से गुज़ारिश है की इन रातों में अल्लाह से दुआ करें की अल्लाह हमारे मुल्क हिंदुस्तान और पूरी दुनिया को कोरोना वायरस से निजात अता फरमाए।

घरों में इबादत करें
मौलाना मोईनुद्दीन रिजवी ने कहा कि इस कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से हो रहा है । इसे देखते हुए राजस्थान सरकार ने भी लोगों की सुरक्षा के लिए लॉकडाउन में सख्ती की है । ऐसे में अपनी और परिवार की सुरक्षा के लिए ज़्यादा भीड़ भाङ लगाने से बचें और अपने अपनें घरों में ही ईबादत करें। हुकूमत की गाइडलाइन पर अमल करें । पुलिस प्रशासन का सहयोग करें । उन से ना उल्झें बल्कि पुलिस प्रशासन हमारे लिए ही अपनी जान खतरे में डाल कर हमारी हिफाज़त कर रहे हैं।

अल्लाह ने क़ुरआन में फरमाया जिसने एक इनसान की जान बाचाई उसने पूरे इनसानियत की जान बाचाई। और जिनसे एक आदमी को कत्ल किया उसने पूरी इनसानियत को कत्ल किया। हमारी वजह से किसी को तकलीफ नहीं होनी चाहिए। यह महीना रहमत और मग़फिरत का है। ज्यादा से ज्यादा अपने रब को याद कर के उसे राज़ी करें और यह अशरा यानी रमजान के आखिरी दस दिन जहन्नम से आज़ादी का अशरा है। अपनी मग़फिरत और तमाम उम्मत की मग़फिरत दुआऐं करते रहें।

(रिपोर्ट : आरिफ कुरैशी )

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

और पढ़ें