5 साल के बेटे ने दी मुखाग्नि:सीआरपीएफ के कांस्टेबल मनोज की पीलिया से मौत

बहरोड़13 दिन पहले

महाराष्ट्र के नागपुर में तैनात बहरोड़ के सीआरपीएफ कांस्टेबल की लंबी बीमारी के चलते ड्यूटी के दौरान मौत हो गई। उसका शव देर रात बहरोड़ पहुंचा था जो आज सुबह उसके पैतृक गांव कांकरा-बर्डोद पहुंचा। वहाँ गमगीन माहौल के बीच सैनिक सम्मान के साथ अंत्येष्टि की गई।

मृतक के पिता भी हैं सीआरपीएफ में

मृतक चालक कांस्टेबल मनोज कुमार चौधरी माता-पिता का इकलौता बेटा था। उसके पिता महेंद्र सिंह सीआरपीएफ में इंस्पेक्टर के पद पर 55वीं बटालियन दिल्ली में तैनात हैं। मृतक मनोज कुमार ने वर्ष 2006 में सीआरपीएफ को ज्वाइन किया था।

मृतक के दो बेटियाँ व एक बेटा है। बड़ी बेटी अनुष्का 7वीं में पढ़ती है तो वहीं छोटी बेटी रिया कक्षा 4 में पढ़ती है। सबसे छोटा बेटा देव 5 साल का है जिसने मुखाग्नि दी।

पीलिया से पीड़ित था कांस्टेबल

मृतक के भाई मनदीप ने बताया कि कि करीब 20 दिन पहले नागपुर में मनोज की पोस्टिंग हुई थी। जिसके बाद से ही वह पीलिया की बीमारी पीड़ित था। तबियत खराब होने पर नागपुर के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से गंभीर हालत में निजी अस्पताल रेफर कर दिया गया। जहां उपचार के दौरान मृत्यु हो गई।

खबरें और भी हैं...