पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट:असरुद्दीन फर्जी सिम से चला रहा था जिहाद की फैक्ट्री

भिवाड़ी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
8 जुलाई को प्रकाशित खबर। - Dainik Bhaskar
8 जुलाई को प्रकाशित खबर।
  • पुलिस ने मोबाइल डेटा व कश्मीर लिंक के सबूत जुटाए, फर्जी सिम कार्ड डोटाना के नसरुद्दीन ने दिए थे

सोशल मीडिया पर राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के संचालन के मामले में जुलाई माह में पुलिस द्वारा पकड़ा गया बैंगनहेड़ी गांव निवासी असरुद्दीन फर्जी सिम कार्ड के जरिए सोशल मीडिया पर जिहाद की फैक्ट्री चला रहा था। उसे नेटवर्क से जुड़े रखने के लिए फर्जी सिमकार्ड डोटाना के एक दुकानदार ने उपलब्ध कराए थे। जिसे भी पुलिस फर्जकारी के मामले में गिरफ्तार कर चुकी है। वहीं असरुद्दीन के मोबाइल से मिले आपत्तिजनक कंटेट और कश्मीर लिंक के सबूतों के आधार पर उसके खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल कर दी गई है।

पुलिस ने अब सरकार से इस मामले में अभियोजन स्वीकृति मांगी है। सरकार जब इसकी स्वीकृति देगी तभी कोर्ट इस मामले को संज्ञान में लेगा। मामले को लेकर गठित एसआईटी का नेतृत्व कर रहे भिवाड़ी एएसपी अरुण मच्या ने बताया कि असरुद्दीन जिन सिमकार्ड के जरिए सोशल मीडिया पर एक्टिव रहता था वो दोनों सिमकार्ड उसके नाम पर जारी नहीं थे। जांच में जिनके दस्तावेजों के आधार पर सिम कार्ड जारी हुए उनकी तलाश करते हुए पुलिस सिम जारी करने वाले दुकानदार तक पहुंची तो एक और फर्जीबाड़े का खुलासा हुआ।

असरुद्दीन को फर्जी सिम कार्ड डोटाना गांव के नसरुद्दीन ने उपलब्ध कराए थे। नसरुद्दीन गांव में मोबाइल की शॉप चलाता है। पुलिस आरोपी दुकानदार को दूसरों के दस्तावेज से सिमकार्ड जारी कर किसी अन्य को बेचने के मामले में गिरफ्तार कर चुकी है। एएसपी मच्या ने बताया कि असरुद्दीन के मामले में पुलिस की ओर से चार्जशीट भी पेश की जा चुकी है।

उसके मोबाइल में मिले अलग-अलग तरह के सोशल मीडिया पर एक्टिव ग्रुप के आपत्तिजनक कंटेट व कश्मीर में सक्रिय राष्ट्र विरोधी तत्वों से कनेक्शन के सबूतों को इसमें आधार बनाया गया है। गौरतलब है कि 6 जुलाई को जयपुर रेंज आईजी की स्पेशल टीम ने तिजारा थाने के गांव बैंगनहेड़ी में कार्रवाई कर असरुद्दीन को राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के संचालन के मामले में गिरफ्तार किया था।

खबरें और भी हैं...