प्रशासन के सामने हो रहा भ्रष्टाचार:कोटकासिम में बिना भू रूपांतरण कराएं कृषि की भूमि पर बन रहीं अवैध कालोनियां

भिवाड़ी3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अलवर जिले की कोटकासिम तहसील में इन दिनों भ्रष्टाचार अपने चरम स्तर पर है। यहां पर चाहे जनप्रतिनिधि हो या फिर प्रशासनिक अधिकारी सब अपने फायदे की सोच रहे हैं। किसी को भी सरकारी नियमों और सरकारी संपत्ति की परवाह नहीं है। कोटकासिम कस्बे के आसपास बिना भू रूपांतरण कराए सभी नियमों को ताक पर रखकर अवैध कॉलोनी बनाई जा रही हैं, इन काॅलाेनियों में मोटी रकम वसूल कर ग्रामीण लोगों को जमीन दी जा रही हैं। इन अवैध काॅलाेनियों में ग्राम पंचायत जनप्रतिनिधि सहित सरकारी विभागों में कार्य करने वाले कर्मचारियों का भी हिस्सा बताया जा रहा है।

यही नहीं कस्बे के पास साबी नदी में स्थित खसरा नंबर 547 पर जो कि 556 नाले की जमीन है उस पर भी फर्जी एग्रीमेंट लिखा कर प्लॉट काट दिए गए हैं। इस जमीन पर किसी भी प्रकार का कब्जा यानिर्माण गैरकानूनी है। इस तरह की जमीन को ना ही बेचा जा सकता है और ना ही इन पर किसी भी प्रकार का निर्माण किया जा सकता है। कोई भी इस तरह का गैर कानूनी काम अगर करता है तो उस पर प्रशासन कड़ी कार्रवाई करता है, लेकिन कोटकासिम में भू माफिया एवं प्रशासनिक अधिकारियों के बीच ऐसा गठजोड़ है कि कार्रवाई तो दूर प्रशासन इनकी तरफ देखता भी नहीं है।

स्थानीय मीडिया भी कई बार प्रशासन को इस भ्रष्टाचार के बारे में बता चुका है लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। इधर कोटकासिम तहसीलदार अरुण कुमार का कहना है कि उनके पास कई शिकायतें इस तरह की आई हैं, जिन पर अभी कार्रवाई की जाएगी। इस मामले पर उपखंड अधिकारी गंगाधर मीणा कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं है।

खबरें और भी हैं...