पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नई और अच्छी पहल:10 लाख लगा नाइट्रोजन प्लांट को ऑक्सीजन प्लांट में बदला, काेविड मरीजाें के लिए साैंपा

अलवर23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नाईट्राेजन को ऑक्सीजन प्लांट बना प्रशासन को सौंपते कंपनी के अधिकारी। - Dainik Bhaskar
नाईट्राेजन को ऑक्सीजन प्लांट बना प्रशासन को सौंपते कंपनी के अधिकारी।
  • जिप सीईओ की पहल पर भिवाड़ी की कंपनी ने उठाया बीडा, सप्लाई भी शुरू

प्रशासन ने नवाचार करते हुए औद्योगिक इकाई के नाइट्रोजन प्लांट को ऑक्सीजन प्लांट में बदलकर भिवाड़ी के कोविड अस्पताल थड़ा में स्थापित किया है। कलेक्टर नन्नूमल पहाडिया ने बताया कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में कोविड रोगियों को ऑक्सीजन की ज्यादा जरूरत रही। इसके लिए जिले की औद्योगिक इकाइयों में नाइट्रोजन प्लांट ढूंढकर उसे ऑक्सीजन प्लांट में बदलने का दायित्व जिला परिषद के सीईओ जसमीत सिंह संधू ने आगे बढ़कर लिया।

संधू ने भिवाड़ी क्षेत्र में नाइट्रोजन प्लांटों की जानकारी जुटाने के लिए अप्रैल में औद्योगिक इकाइयों के साथ बैठक की। इसके बाद मै. उत्तम विष्णु स्नैक्स लि. भिवाडी के डायरेक्टर आदित्य डालमिया ने अपनी इकाई में स्थापित 40 न्यूटन क्यूबिक मीटर प्रतिघंटा की क्षमता के नाइट्रोजन प्लांट को ऑक्सीजन प्लांट में बदलने की सहमति दी।

वे अपने इस प्लांट को उपखंड तिजारा के डेडीकेटेड कोविड अस्पताल थड़ा में स्थानान्तरित करने काे तैयार हो गए। नाइट्रोजन प्लांट को आक्सीजन प्लांट में बदलने के लिए तकनीकी सहयोग पेन आईआईटी चेप्टर जयपुर के उद्यमी कैलाश राठी एवं आशीश कानोडिया की टीम ने दिया।

इसमें नाइट्रोजन प्लांट में अपेक्षित परिवर्तन, आवश्यक पुर्जे एवं जियोलाइट केमिकल को आयात करने संबंधी कार्य शामिल थे। नाइट्रोजन प्लांट काे बदलने पर हुआ 10 लाख का खर्चा भी उत्तम विष्णु स्नेक्स लि. भिवाड़ी एवं पेन आईआईटी जयपुर चेप्टर के उद्यमियों ने किया। इस नवाचार के जरिए 30 सिलेंडर क्षमता के बराबर ऑक्सीजन आपूर्ति 28 मई से कोविड अस्पताल थड़ा में शुरू हो गई है। संस्था ने इस प्लांट काे काेराेनाकाल के दाैरान मरीजाें के लिए प्रशासन काे साैंपा है।

खबरें और भी हैं...