पर्यटन दिवस:मुफ्त प्रवेश हाेने से 1200 लाेग पहुंचे संग्रहालय देखने, लोक कलाकारों ने दी प्रस्तुतियां

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

विश्व पर्यटन दिवस पर मंगलवार काे पर्यटकाें के लिए संग्रहालय में प्रवेश मुफ्त था। इसलिए करीब 1200 पर्यटक संग्रहालय देखने पहुंचे। छह स्कूलों के विद्यार्थियाें के अलावा कई लाेग परिवार सहित और अनेक लाेग अपने दाेस्ताें के साथ संग्रहालय गए। संग्रहालय देखने आए लाेगाें के लिए साइड बदलने वाली फाेटाे, एक म्यान में दाे तलवार, हजार मेखी काेट,

पेडल में गियर वाली साइकिल, उल्कापिंड, टाइगर व माेती रीछ की ममी आकर्षण का केंद्र रही। पर्यटकाें ने संग्रहालय में विभिन्न प्रकार के वाद्ययंत्र, शिलालेख, प्राचीन दुर्लभ मूर्तियां, विभिन्न प्रकार के शस्त्र, राजा-महाराजाओ की पाेशाक, सिंहासन, विनय विलास, सरिस्का महल व गेहूं के तने से बने दक्षिण भारत के मंदिर का माॅडल, स्कॉटलैंड के पक्षी, रागिनी, प्राचीन ग्रंथ सहित अन्य वस्तुएं देखी।

कई लाेगाें ने संग्रहालय में टाइगर की ममी के साथ माेबाइल में फाेटाे भी ली। जिला कलेक्टर डाॅ. जितेंद्र कुमार साेनी भी संग्रहालय का अवलोकन करने पहुंचे। उन्हाेंने पर्यटकाें काे पर्यटन दिवस की शुभकामना दी। संग्रहालय में आयाेजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में निवाई टाेंक से आए लाेक कलाकाराें के दल ने कच्ची घाेड़ी नृत्य की प्रस्तुति दी। पर्यटकाें ने कलाकाराें के साथ फाेटाे भी ली।

संग्रहालय में फूलाें से बनाई गई रंगाेली भी पर्यटकाें के लिए आकर्षण का केंद्र रही। सुबह पर्यटन विभाग की ओर से संग्रहालय में पर्यटकाें का तिलक लगाकर स्वागत किया गया। इधर, नेहरू पार्क में शाम काे हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम में भनभरी देवी ग्रुप ने चकरी नृत्य ओर काेटा के गाेपालदास एंड ग्रुप ने सहरिया नृत्य की प्रस्तुति दी। इधर, आर्य पब्लिक सी. सै. स्कूल, स्वामी दयानंद मार्ग में प्रधानाचार्या नेहा रानी जादौन के नेतृत्व मे मनाया गया।

कक्षा 9वीं के विद्यार्थियों ने पर्यटन दिवस पर सभी से ऐतिहासिक स्थलों व पर्यटक स्थलों को स्वच्छ रखने की अपील की। विद्यार्थियों ने एक लघु नाटिका प्रस्तुत की जिसमें पर्यटक स्थलों को किस तरह आकर्षित बनाया जाए, जिससे भारत मे पर्यटन के द्वारा अधिक से अधिक लोगो को रोजगार भी मिल सके। अध्यापिका शुचि शर्मा व अनिता गुप्ता ने बताया कि इस दिन का उद्देश्य लोगों को इंटरनेशनल टूरिज्म से अवगत करवाना था।

खबरें और भी हैं...