• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • 177 Rupees Daily Wages To The Family Working In NREGA, Now Took Room Rent For 2 Thousand Rupees, Neither In BPL Nor House Built

बेटा-बूह और तीन पौते-पौतियों का सहारा झौपड़ी, ढह गई:​​​​​​​नरेगा में मजूदरी करने वाले परिवार को 177 रुपए रोज की मजदूरी, अब 2 हजार रुपए में कमरा किराया लिया, न बीपीएल में न मकान बना

अलवर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुजुर्ग बसंती का परिवार। - Dainik Bhaskar
बुजुर्ग बसंती का परिवार।

65 साल की दादी बसंती। अपने बेटे-बहू के अलावा तीन पौते-पौती हिमांशु, लक्ष्य व शिवा के साथ अलवर के रामगढ़ में अलावड़ा के पास चौमा गांव में जिस झौपड़ी में रहती हैं वह भी 7 दिन पहले ही बारिश में ढह गई। अब छप्पर का सहारा भी नहीं रहा। मजबूरी में गांव में ही 2 हजार रुपए में किराए का एक कमरा लिया है।

जबकि रोज 177 रुपए की मजदूरी कर परिवार का खर्च चलाते हैं। फिर भी यह परिवार बीपीएल से नहीं जुड़ पाया है। न प्रधानमंत्री आवास योजना से न सीएम आवास योजना से कोई लाभ मिला। अब बूढी दादी बोली पूरी उम्र निकल गई क्या ये सरकार कभी उनके पास आकर बोलेगी कि आपको मकान दे रहे हैं। छोटे-छोटे बच्चों का सपना है उनका अपना एक छोटा सा घर हो। जिसमें वे खुशी से रह सकें।

नरेगा में मजदूरी करते पति-पत्नी।
नरेगा में मजदूरी करते पति-पत्नी।

ऑनलाइन पढ़ाई तो दूर, ये टपकती झौपड़ी में रहे
शिवा व लक्ष्य का कहना है कि वे सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं। ऑनलाइन पढ़ाई के बारे में पड़ौसियों के बच्चों से जरूरत सुनते हैं। लेकिन, उन्होंने कभी ऑनलाइन पढ़ाई नहीं की। न उनके पास कोई बड़ा मोबाइल है। स्कूल से भी ऐसी कोई सुविधा नहीं मिली है। जिससे उनकी पढ़ाई जारी रहती। परिवार में माता-पिता सुबह से शाम तक नरेगा में मजदूरी पर चले जाते हैं। ऑनलाइन पढ़ाई का इंतजाम नहीं है। अब स्कूल खुलने पर भी पढ़ाई हो सकेगी।

यहां झौपड़ी थी जो ढह गई।
यहां झौपड़ी थी जो ढह गई।

हम बीपीएल नहीं तो कौन
राजेश व सविता पति-पत्नी है। उनके तीन बच्चे हैं। जो अपनी बूढ़ी मां के साथ रहते हैं। इस दम्पति का कहना है कि हम नरेगा में मजदूरी करते हैं। एक झौपड़ी थी वह भी गिर गए। तीन बच्चे हैं। उनके जीवन यापन का खर्च मुश्किल से चला पाते हैं। जब हम बीपीएल में नहीं है तो कौन हैं। पीएम आवास योजना में उनको न पैस मिला न मकान। सरकारों को सही रिपोर्ट पहुंचनी चाहिए। ताकि असल गरीब को लाभ मिल सके। ग्राम सचिव मिलखराज का कहना है कि परिवार को प्रधानमंत्री आवास येाजना का लाभ दिलवाया जाएगा। अब तक उनका जानकारी नहीं थी।

फोटो-कंटेंट: रमेश प्रजापत, अलावड़ा।

खबरें और भी हैं...