मौसम अपडेट:शहर में 51 मिमी बारिश, चूड़ी मार्केट में भर गया ढाई फुट पानी

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चूड़ी मार्केट में भरे पानी में डूबी बाइक। - Dainik Bhaskar
चूड़ी मार्केट में भरे पानी में डूबी बाइक।

जिले में मानसून फिर सक्रिय हाे गया। शनिवार काे सुबह 8 से शाम 4 बजे तक मुंडावर में सबसे अधिक 71 और अलवर शहर में 51 मिलीमीटर बारिश हुई। जल संसाधन विभाग के अनुसार इसी अवधि में साेड़ावास में 21, रामगढ़ 20, बानसूर व कठूमर में 16-16, सिलीसेढ़ 15, बहादुरपुर 12, नीमराना 8, बहराेड़ 6, जयसमंद में 3, राजगढ़, थानागाजी व टपूकड़ा में 2-2 और तिजारा व किशनगढ़बास में 1-1 मिलीमीटर बारिश हुई।

इसके पहले शुक्रवार शाम 4 बजे से शनिवार सुबह 8 बजे तक राजगढ़ में 53, किशनगढ़बास में 29, मंगलसर में 25, अलवर शहर में 9, तिजारा में 10, मालाखेड़ा व बहादुरपुर में 4-4 और थानागाजी व जयसमंद में 3-3 मिलीमीटर बारिश हुई। पूरे जिले में अच्छी बारिश हाेने से कई जगह नदी-नालाें में उफान आ गया। बांधाें में भी जलस्तर बढ़ा है।

जिले में अभी बारिश के अनुकूल स्थिति

बाबू शाेभाराम राजकीय कला काॅलेज के भूगाेल विभाग के एसाेसिएट प्राेफेसर विजय वर्मा ने बताया कि कम दबाव का क्षेत्र बनने से जिले में फिर मानसून सक्रिय हुअा है। अभी जिले में बारिश के अनुकूल परिस्थिति बनी हुई है।

कलेक्टर ने लिया शहर में पानी निकासी का जायजा

शहर में दाेपहर करीब एक बजे शुरू हुई बारिश लगभग 30 मिनट तक चली। इसके बाद कुछ देर रुकने के बाद फिर बारिश शुरू हाे गई। तेज बारिश से नालाें का पानी सड़काें पर आ गया। बारिश से अल्कापुरी शाॅपिंग काॅम्लेक्स में 5 दुकानाें के छज्जे टूट गए। चूड़ी मार्केट में ढाई फीट तक पानी भर गया। इस दाैरान अंडरग्राउंड दुकानाें में भी पानी भर गया।

बारिश के दाैरान कलेक्टर नन्नूमल पहाड़िया और नगर परिषद आयुक्त साेहन सिंह नरूका ने नालाें से बारिश का पानी निकलने की स्थिति का जायजा लिया। कलेक्टर ने अंबेडकर चाैराहे से पहले भरे पानी काे देखकर गाड़ी रुकवाकर पानी के भराव के हालात देखे और नगर परिषद आयुक्त काे नाले की चाैड़ाई बढ़ाने के निर्देश दिए। हालांकि कलेक्टर की गाड़ी खड़ी हाेने के कारण काफी देर तक वाहनाें का जमावड़ा भी लग गया।

इस दाैरान कलेक्टर ने अपने गनमैन से पानी के हालात काे लेकर वीडियाे भी शूट कराया। इस दाैरान यूअाईटी के विशेषाधिकारी जितेंद्र सिंह नरूका व एसई तैयब खां भी माैके पर पहुंच गए। इसके बाद अधिकारियाें ने मंगलासर छावनी से गुजरने वाला नाला सकरा व कच्चा हाेने के कारण आ रही दिक्कताें काे लेकर मिलिट्री के अधिकारियाें से भी बातचीत की। कलेक्टर ने 200 फीट राेड तक की नाले की स्थिति देखी।

खबरें और भी हैं...