पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

प्लाज्मा थैरेपी:6888 लोग कोरोना को मात दे बना चुके एंटी बॉडी, ये प्लाज्मा दान कर बचा सकते हैं मरीजों की जान

अलवर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • चिकित्सा विभाग ने बनाई ऐसे लाेगाें की सूची, प्लाज्मा दान करने के लिए करा सकते हैं रजिस्ट्रेशन

जिले में कोरोना मरीजों की जान बचाने के लिए 6888 लोग तैयार हो चुके हैं। ये वे लोग हैं, जो कोरोना को मात दे चुके और प्लाज्मा दान कर गंभीर कोरोना मरीजों की जान बचा सकते हैं। ये योद्धा प्लाज्मा दान करने के लिए अलवर शहर के राजीव गांधी सामान्य अस्पताल और ब्लॉकों में बीसीएमओ कार्यालय में अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने ऐसे लोगों की सूची तैयार की है जो 18 से 60 साल की उम्र के हैं और प्लाज्मा दान कर सकते हैं। सभी ब्लॉकों में सर्वाधिक 2015 लोग अलवर शहर में हैं। अगर प्लाज्मा दान करने के लिए लोग रजिस्ट्रेशन कराते हैं, तो जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल से टीम बुलाकर प्लाज्मा लिया जा सकेगा और जयपुर के आरयूएचएस के कोविड हॉस्पिटल सहित अन्य अस्पतालों में भर्ती गंभीर मरीजों को प्लाज्मा थैरेपी देकर उनकी जान बचाई जा सकेगी। लेकिन इसके लिए कोविड को मात दे चुके लोग स्वयं आगे आकर रजिस्ट्रेशन कराएं तो वे दूसरों की जिंदगी बचाने में सफल हो सकेंगे।

3 महीने के अंदर कर सकते हैं प्लाज्मा दान : कोरोना पॉजिटिव आने पर संक्रमण को मात देने के 28 दिन बाद ही प्लाज्मा दान किया जा सकता है, क्योंकि कोरोना से ठीक हो चुके लोगों के अंदर एंटी बॉडीज विकसित हो चुकी हैं। ऐसे लोग 3 महीने के अंदर ही प्लाज्मा दान कर सकते हैं। उसके बाद उनका प्लाज्मा कोविड मरीजों के काम नहीं आएगा।

ये है प्लाज्मा थैरेपी : खून में 4 प्रमुख चीजें होती हैं। डब्ल्यूबीसी, आरबीसी, प्लेटलेट्स और प्लाज्मा। ज्यादातर जहां सुविधा उपलब्ध है, वहां किसी को भी होल ब्लड (चारों सहित) नहीं चढ़ाया जाता। अब इन्हें अलग-अलग जरूरत के मुताबिक चढ़ा दिया जाता है। प्लाज्मा, खून में मौजूद 55 फीसदी से ज्यादा हल्के पीले रंग का पदार्थ होता है, जिसमें पानी, नमक और अन्य एंजाइम्स होते हैं। ऐसे में किसी भी स्वस्थ मरीज जिसमें एंटीबॉडीज़ विकसित हो चुकी हैं, उसका प्लाज़्मा निकालकर दूसरे व्यक्ति को चढ़ाना ही प्लाज्मा थैरेपी है।

जिले में कोरोना को मात दे चुके योद्धाओं की सूची तैयार की है। इसमें 18 से 60 साल तक के 6888 लोग शामिल हैं, जो प्लाज्मा दान कर कोरोना के गंभीर मरीजों की जान बचा सकते हैं। सबसे पहले ये लोग स्वेच्छा से जिला अस्पताल या ब्लॉक कार्यालय में अपना रजिस्ट्रेशन कराएं। रजिस्ट्रेशन होने के बाद जयपुर से टीम बुलाकर प्लाज्मा लिया जा सकेगा। इसमें रिकवर होने के 28 दिन बाद से 3 महीने तक ही प्लाज्मा दान किया जा सकेगा। इसके बाद इनका प्लाज्मा कोरोना मरीजों के काम नहीं आ सकेगा।
डॉ. ओमप्रकाश मीणा, सीएमएचओ अलवर
जिला अस्पताल में एक मशीन की कमी से शुरू नहीं हो सकी कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट
जिला अस्पताल में 2 साल बाद भी ब्लड कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट के लिए रेफ्रिजरेटेड सेंट्रीफ्यूज मशीन नहीं आने से प्लाज्मा और प्लेटलेट्स की सुविधा मरीजों को नहीं मिल सकी है। एक मशीन की कमी से पूरी यूनिट ही शुरू नहीं हो सकी है। इस कारण अगर प्लाज्मा दान करने के लिए लोग रजिस्ट्रेशन कराते हैं तो जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल से ही टीम बुलानी पड़ेगी।

सरकार की ओर से राजस्थान मेडिकल सर्विसेज कॉर्पोरेशन (आरएमएससीएल) के जरिए आधुनिक रेफ्रिजरेटर सहित करीब 10 मशीनें ब्लड बैंक में भेजी जा चुकी हैं, लेकिन एक मशीन करीब 2 साल से अटकी हुई है। 50 लाख की लागत से ब्लड बैंक का जीर्णोद्धार ब्लड कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट के लिए ही कराया गया था। इस भवन में ब्लड बैंक और ब्लड कंपोनेंट सेपरेशन यूनिट के लिए अलग-अलग व्यवस्था की गई है।
10 मशीनें 2 साल से कमरों में बंद : ब्लड कंपोनेंट यूनिट के लिए रेफ्रिजरेटेड सेंट्रीफ्यूज मशीन को छोड़कर सभी मशीनें एक साल पहले आ चुकी हैं। इनमें प्लाज्मा डी-फ्रीजर, आरडीपी के लिए एक्जीक्यूटर व इंक्यूवेटर, ब्लड बैग रखने के रेफ्रिजरेटर, प्लाज्मा बनाने के लिए प्लाज्मा एक्सप्रेसर, एसडीपी बनाने की मशीन, रक्तदान करने के लिए डोनर काउचर, ब्लड कलेक्शन मॉनिटर, ब्लड के क्रॉस मैच के लिए जैल कार्ड मशीन शामिल है, लेकिन रेफ्रिजरेटेड सेंट्रीफ्यूज मशीन नही आ सकी है।

कहां कितने लोग दान कर सकते हैं प्लाज्मा

अलवर शहर 2015 बानसूर 165 बहरोड़ 347 भिवाड़ी 1716 खेड़ली 196 किशनगढ़बास 416 कोटकासिम 124 लक्ष्मणगढ़ 263 मालाखेड़ा 154 मुंडावर 141 राजगढ़ 142 रामगढ़ 176 रैणी 80 शाहजहांपुर 192 थानागाजी 72 तिजारा 563

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें