लव-जिहाद का आरोप, महिला-पुरुषों का विरोध:कलेक्ट्रेट के बाहर विरोध जताते समय पता लगा नाबालिग आ गई

अलवर2 महीने पहले
कलक्ट्रेट पर विरोध जताते लोग।

अलवर शहर से एक नाबालिग को बहला-फुसलाकर ले जाने के मामले में सोमवार दोपहर को सर्व समाज के लोग विरोध जताने कलेक्ट्रेट पहुंचे। हिंदू संगठनों ने इसे लव-जिहाद बताते हुए कहा कि सर्व समाज अब बर्दाश्त नहीं करेगा। पहले भी ऐसी घटनाएं सामने आ चुकी हैं।

यह सब योजनाबद्ध होना लगता है। हालांकि जब सर्व समाज के लोग विरोध में जुटे थे। तभी पुलिस प्रशासन से सूचना मिली कि नाबालिग को पुलिस वापस ला चुकी है। बजरंग दल के प्रेम राजावत ने कहा कि 200 फीट रोड से एक हिंदू नाबालिग को मुस्लिम युवक साजिश कर ले गया।

युवक ने परिवार को डराया और धमकाया भी। इस तरह की धमकी देकर नाबालिग को लेकर जाने के मामले में सर्व समाज ने विरोध जताया है। प्रशासन को पूरी घटना से अवगत कराया है। हिंदू समाज संगठित होकर इस लव-जिहाद को मुंह तोड़कर जवाब देगा।

ये समाज व मातृशक्ति एकजुट है। हालांकि इस मामले में अब नाबालिग के घर लौट आने की सूचना मिली है। पहले भी मुस्लिम युवक के खिलाफ पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कराया था। पुलिस प्रशासन ने उस मामले में मदद की थी।

कलेक्ट्रेट पर बड़ी संख्या में पहुंचे महिला -पुरुष। सबने नाबालिग को बहला-फुसलाकर ले जाने पर विरोध जताया।
कलेक्ट्रेट पर बड़ी संख्या में पहुंचे महिला -पुरुष। सबने नाबालिग को बहला-फुसलाकर ले जाने पर विरोध जताया।

आगे इस तरह की घटना नहीं हो

विरोध जताने आए अन्य प्रतिनिधियों ने बताया कि 18 नवंबर को साहिल नाम का युवक हिंदू नाबालिग को बहला फुसलाकर ले गया था। जब-जब कोई अधर्मी नाबालिग को लेकर जाएगा तब-तब हिंदू संगठन आगे खड़े रहेंगे। यह एक तरह से लव-जिहाद है।

प्रलोभन देकर नाबालिग लेकर चले जाते हैं। ये मसला देश भर का है। इस मामले में एक विधेयक लाने की जरूरत है। पुलिस प्रशासन को भी ऐसे मामलों में पूरी मदद करने की जरूरत है। ताकि हिंदू नाबालिगों को कोई बहला फुसलाकर नहीं ले जा सके।