महिला कांस्टेबल को घर से निकाला:गले पर रस्सी के निशान दिखाए, पुलिस ने मेडकिल कराया; पति व सास-ससुर पर जान से मारने के आरोप

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महिला कांस्टेबल के गले पर निशान। - Dainik Bhaskar
महिला कांस्टेबल के गले पर निशान।

CISF में महिला कांस्टेबल ने ससुराल पक्ष के खिलाफ मारपीट करने व दो बच्चों सहित घर से निकालने का मामला दर्ज कराया है। महिला ने परिवार पर दहेज में 10 लाख रुपए नहीं देने पर प्रताड़ित करने के आरोप भी लगाए हैं। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
पुलिस ने बताया कि बहरोड़ क्षेत्र के गांव ऊंटोली निवासी अनीता पुत्री सुबेसिंह यादव ने रिपोर्ट दर्ज करवाई कि उसकी शादी 21 नवंबर 2011 में हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले की नारनौल तहसील के गांव खतरीपुर दुबलाना निवासी बिक्रम यादव पुत्र अतर सिंह के साथ से संपन्न हुई थी। अनीता शादी से पहले ही सीआईएसफ में कांस्टेबल बन गई थी। पिता ने शादी में एक लाख कैश, एक बजाज मोटरसाइकिल और अपनी हैसियत के अनुसार सोने-चांदी सहित पूरा दान- दहेज दिया था। शादी के कुछ महीनों बाद से ही विवाहिता का पति विक्रम, ससुर अतर सिंह और सास शांति देवी दहेज में 10 लाख रुपए नगद की मांग को लेकर मारपीट करने लग गए थे। उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित करने लगे। पीड़िता ने शादी के बाद वर्ष 2013 में सीआईएसएफ ज्वाइनिंग कर ली।
नौकरी की तनख्वाह भी किस्तों में
महिला ने बताया कि उसकी नौकरी की तनख्वाह भी ससुराल पक्ष के लोग गाड़ी लोन में चुकाने लग गए। पीड़िता ने आरोप लगाया कि उसके ससुर, सास और पति ने कमरे में बंद कर बेरहमी से मारपीट कर दी। ससुर भी बुरी नियत से उसे देखने लगा। 23 सितंबर की रात्रि को उसके साथ मारपीट की गई। 26 सितंबर की रात्रि को जब पीड़िता दोनों बच्चों (6 साल की बेटी एवं 3 साल का बेटा) के साथ सोई हुई थी, तभी अचानक से उसके सास व ससुर कमरे में घुस गए और रस्सी से गला घोटने का प्रयास किया। पीड़िता ने जैसे-तैसे अपने आप को बचाया। अगले ही दिन सास-ससुर ने पीडिता पर दबाव बनाते हुए स्वयं के द्वारा ही गला घोटना लिखवाना चाहा। लेकिन पीड़िता ने मना कर दिया। जिसकी सूचना पीहर पक्ष को दी गई।
पिहर पक्ष आने पर निकाल दिया
पीहर पक्ष के लोग ससुराल पहुंचे और सास-ससुर को उलाहना देते हुए मारपीट करने के बारे में जाना, तो उन्होंने दोनों बच्चों के साथ घर से निकाल दिया। पुलिस ने विवाहिता की रिपोर्ट पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। जिसकी तफ्तीश सब इंस्पेक्टर भूप सिंह को सौंपी गई है। पुलिस ने पीड़िता के गले पर रस्सी का निशान देखते हुए मेडिकल भी करवाया है।

जितेंद्र नरूका, बहरोड़।

खबरें और भी हैं...