भेदभाव पूर्ण तरीके से विकास कार्य:सरपंच पर तानाशाही का आरोप लगाते हुए पंचों ने किया बैठक का बहिष्कार

अलवर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नारायणपुर. ग्राम पंचायत के सामने खड़े होकर बैठक का बहिष्कार करते उप सरपंच व वार्ड पंच। - Dainik Bhaskar
नारायणपुर. ग्राम पंचायत के सामने खड़े होकर बैठक का बहिष्कार करते उप सरपंच व वार्ड पंच।

ग्राम पंचायत सरपंच पर तानाशाही का आरोप लगाते हुए गुरुवार को उपसरपंच आकाश अग्रवाल के नेतृत्व में वार्ड पंचों ने मिनी सचिवालय में आयोजित पाक्षिक बैठक का बहिष्कार किया है। उपसरपंच व वार्ड पंचों ने आरोप लगाते हुए बताया कि सरपंच मन्नी देवी द्वारा काफी समय से भेदभाव पूर्ण तरीके से विकास कार्य कर वार्ड पंचों की मांगों की अनदेखी की जा रही है।

जिसको लेकर पंचों ने पाक्षिक बैठक का बहिष्कार किया है। उन्होंने सरपंच पर मनमानी का आरोप लगाते हुए कहा कि सरपंच द्वारा आज तक प्रशासन गांवों के संग शिविर में आए पट्टा पत्रावली का निस्तारण नहीं किया गया। न ही पंचायत की आय-व्यय का ब्यौरा दिया।

बिना वार्ड पंचों की सहमति के कोई कार्य नहीं किया जाए आदि मांगों को लेकर पंचों में सरपंच के प्रति रोष बना हुआ है। वार्ड पंचो ने बताया कि सरपंच द्वारा 13 जनवरी तक बताई गई मांगों पर विचार नहीं किया गया तो कोरम द्वारा आगामी पाक्षिक बैठकों का बहिष्कार कर धरना प्रदर्शन किया जाएगा। इस मौके पर वार्ड पंच बुद्धाराम यादव, दिनेश भार्गव, सरिता कँवर, सुबेसिंह गुवारिया, ज्ञानचंद सैन, रवि सोलंकी, रामकुमार, बाबूलाल, लक्ष्मी, सुरेन्द्र सिंह शेखावत, घनश्याम गुर्जर आदि वार्ड पंच मौजूद थे।

इधर सरपंच मन्नी देवी ने बताया कि आय-व्यय का ब्यौरा नियमित रूप से कोरम को दिया जा रहा हैं। कुछ सदस्य बेवजह राजनीति कर रहे है। विकास कार्य भी जीपीडीपी अनुसार सभी वार्डों में किए जा रहे हैं। कोरोना महामारी से ग्राम पंचायतों को मिलने वाली राशि समय पर नहीं आ रही हैं। जिससे विकास कार्य बाधित हो रहे हैं। प्रशासन गांवो के संग अभियान में प्राप्त पट्टा आवेदनों का नियमानुसार निस्तारण किया जा रहा हैं। उन पर लगाए गए आरोप निराधार हैं।

खबरें और भी हैं...