पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Alwar's Sarita Got 2 Times Teacher, 1 Time School Lecturer Selection, Presently GSTO, Now 205th Rank In RAS, 5th Government Job

आरएएस बनना था इसलिए 10 साल में घूमने नहींं गए:अलवर की सरिता का 2 बार टीचर, 1 बार स्कूल लेक्चरर में चयन, वर्तमान में जीएसटीओ; अब आरएएस में 205वीं रैंक,  5वीं सरकारी नौकरी

अलवर17 दिन पहले
सरिता यादव की 205वीं रैंक

अलवर के कोटकासिम के शिलपटा गांव निवासी सरिता यादव का 5वीं बार सरकारी नौकरी में चयन हुआ है। लेकिन लक्ष्य आरएएस बनाना था। इसलिए पति-पत्नी 10 साल से घूमने के प्लान भी टालते रहे। वर्तमान में सरिता भिवाड़ी में जीएसटीओ हैं। अब नौकरी में रहते हुए आरएएस में 205वीं रैंक मिली है। इससे पहले दो बार थर्ड ग्रेड टीचर व एक बार स्कूल लेक्चरर पद पर चयनित हुई हैं। बड़े लक्ष्य को सीढ़ी दर सीढ़ी पाने के लिए बहुत कुछ त्यागना पड़ता है। जिस तरह सरिता की शादी को 10 साल हो चुके हैं। 6 साल की बेटी है। यही नहीं घर, परिवार व रिश्तेदारी में कोई कार्यक्रम होता है तो भी बहुत कम समय के लिए ही जाती हैं। उनके पति अमित यादव का भिवाड़ी में ही बिजनेस है।

सास-ससुर व पति सबका पूरा सहयोग
सरिता यादव का कहना है कि शादी को 10 साल हो गए। 6 साल की बेटी है। सप्ताह में 5 दिन ड्यूटी करती हूं। इसके बावजूद भी पढ़ाई में समय देने का मतलब साफ है कि परिवार में सास-ससुर व पति का पूरा सहयोग मिला है। तभी यह मुकाम मिल सका है। बेटी को दादा-दादी ने संभाला है। शादी से पहले माता-पिता ने अच्छे से पढ़ाया और आगे बढ़ने काे प्रेरित किया।

परीक्षा में छुट्‌टी लेकर पढ़ाई
सरिता ने बताया कि नौकरी रहते ही पढ़ाई की है। जब आरएएस का मेन एग्जाम नजदीक आया तो कुछ दिन की छुट्टी ली। इसके बाद आरएएस के इंटरव्यू के समय छुट्टी ली। बाकी सप्ताह में दो दिन वीकली ऑफ रहता है। उस समय का सदुपयोग किया। इस बार उम्मीद थी कि अच्छी रैंक मिल जाएगी। वैसा ही हुआ। सरिता का कहना है कि एक-एक करके कई एग्जाम फाइट करने के बाद उनका आत्म विश्वास बढ़ता ही गया है। आगे भी किसी बड़े पद तक जाने का मन बना तो पहले की तरह लक्ष्य पाने में लग सकती हूं।

खबरें और भी हैं...