• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Apart From Ajmer, He Is Demanding To Be Shifted To Any Other Jail In The Country, Is Telling A Conspiracy To Be Murdered Here, Even The Production Is Not Happening.

गैंगस्टर पपला गुर्जर ने की 7 दिन की भूख हड़ताल:अजमेर के अलावा देश की किसी भी दूसरी जेल में शिफ्ट करने की मांग, एनकाउंटर का भी सता रहा डर

अलवर2 महीने पहले

अजमेर जेल में बंद कुख्यात गैंगस्टर विक्रम उर्फ पपला गुर्जर 7 दिन भूख हड़ताल पर रहा। 20 सितंबर से उसने वापस खाना शुरू कर दिया है। भूख हड़ताल के पीछे पपला की मांग है कि उसे अजमेर जेल से देश में किसी भी दूसरी जेल में शिफ्ट कर दिया जाए। यहां उसकी जान को खतरा है। इस कारण उसने भूख हड़ताल की, लेकिन सात दिन के बाद अब वह वापस खाना खाने लगा है।

दरअसल, 22 सितंबर को पपला की बहरोड़ कोर्ट में पेशी थी, लेकिन पुलिस लेकर नहीं पहुंची। इस दौरान वकील ने पपला की भूख हड़ताल की जानकारी दी। पपला गुर्जर के वकील ने बताया कि विक्रम के पिता उनसे अजमेर जेल में मिलने भी गए थे। उसके बाद पिता ने भी पपला को दूसरी जेल में शिफ्ट करने की मांग की थी।

पपला ने पहले भी पेशी पर बेड़ियों से बांध कर लाने की मांग की थी। ताकि उसका एनकाउंटर नहीं हो सके। दूसरी तरफ पुलिस पपला को पेशी पर भी नहीं लेकर आ पा रही है। पिछली पांच पेशियों से पपला को कोर्ट नहीं लाया गया। अब 11 अक्टूबर को पेशी की अगली तारीख है। पपला गुर्जर 15 फरवरी से अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल में बंद है।

बहरोड़ से सितंबर 2019 को फरार हुआ था
पपला गुर्जर पर हत्या, दुष्कर्म व मारपीट के मामले दर्ज हैं। 6 सितंबर 2019 को वह अपने कई साथियों के साथ बहरोड़ में पकड़ा गया था। उसके पास कार में करीब 31 लाख रुपए भी मिले थे। अगले दिन सुबह-सुबह ही पपला को उसके साथी बदमाश बहरोड़ थाने का लॉकअप तोड़कर भगा ले गए थे। उन्होंने एके-47 से गोलियां बरसाई थीं।

गर्लफ्रेंड के साथ महाराष्ट्र से 28 जनवरी को पकड़ा गया था
इसके बाद पपला महाराष्ट्र के कोल्हापुर में गर्लफ्रेंड जिया के साथ पकड़ में आया। पुलिस उसे और उसकी गर्लफ्रेंड जिया को अलवर लेकर आई। यहां कई दिन पुलिस ने रिमांड पर लिया। उसके बाद उसे 15 फरवरी को अजमेर जेल भेज दिया गया। उसकी गर्लफ्रेंड जिया अलवर जेल में रही थी।​​​​​​

पपला की गर्लफ्रेंड जिया अलवर जेल से तीन महीने पहले ही रिहा हो चुकी है। जिया को 4 फरवरी को अलवर जेल भेजा था। यहां वह करीब दो माह 4 दिन जेल में रही। बाद में हाईकोर्ट से उसकी जमानत हो गई थी। उसके बाद से अब दोनों को बीच-बीच में पेशी पर आना पड़ता है।

खबरें और भी हैं...