पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आरटीओ में दलालों का कब्जा:फर्जीवाड़ा पकड़ा तो दूसरे दिन आधे रह गए आवेदक

अलवर8 दिन पहलेलेखक: धर्मेंद्र यादव
  • कॉपी लिंक
  • सवाल : क्या इससे यह साबित नहीं होता कि जिन ऑनलाइन आवेदकों को आना था वे सभी दलालों के जाल में फंसे हैं

आरटीओ कार्यालय में जनता से जुड़े कामों में दलालों का आधा कब्जा है, इसकी पुष्टि पिछले सात दिनों के लर्निंग लाइसेंस बनवाने वाले आवेदकों के आंकड़े बखूबी कर रहे हैं। औसतन हर दिन अलवर आरटीओ में लर्निंग लाइसेंस के 200 नए आवेदक आते हैं। लेकिन, पिछले दो दिनों में ये आवेदक घटकर 100 से 120 ही रह गए हैं। जिसका कारण यही है कि सदर थाना पुलिस ने 11 जनवरी को आरटीओ के बाहर दलालों की दुकानों पर छापामार कार्रवाई की थी।

कई दुकानों का सामान जब्त फर्जी लाइसेंस, आरसी व अंकतालिका बनाने का बड़ा खुलासा किया था। बुधवार को यहां टीनशेड के नीचे बैंच लगाकर बैठने वाले दलाल भी कम ही नजर आए। हालांकि कुछ दलाल ऑफिस के बाहर इधर-उधर घूमते देखे गए। इसके चलते अन्य दिनों की अपेक्षा आरटीओ ऑफिस परिसर खाली-खाली नजर आ रहा था।

बिना दलाल के काम कराने वाले लोगों काे परेशानी उठानी पड़ रही थी। इसी बात की ऑफिस के लाइसेंस शाखा कक्ष के अंदर एक झलक दिखाई दी। यहां एक युवक अपने ड्राइविंग लाइसेंस के आवेदन काे वेरिफिकेशन कराने के लिए जूझ रहा था। जिस पर निरीक्षक चिल्ला रहा था, युवक प्रवीण परिवहन निरीक्षक से कह रहा था कि उसका आवेदन अन्य फार्म के नीचे दबा दिया है। वह सुबह 11 बजे से लाइन में खड़ा है और 3 बजे गए है।

आरटीओ में दलालों को पूरा रुतबा है। लाइसेंस बनवाने आने वाले आवेदकों की लाइन में दलालों का बीच में आकर घुसना रोज का काम है। दलालों का आत्मविश्वास इतना होता है कि कार्यालय में बैठे कर्मचारी के सामने फाइल फेंकते हैं। साफ कहते हैं कि पहले ये लाइसेंस देना। बाहर लाइन में खड़े लोग उनकी तरफ देखते रहते हैं। यही कारण है कि दलालों के पास आमजन पहुंचते हैं। उनको लगता है कि वे तुरंत लाइसेंस दिला देंगे। ऐसा ही होता है। तभी उनके पास लोग पहुंचते हैं और मनमर्जी का पैसा लेते हैं।

दलालों की कहानी
5 से 13 जनवरी के लाइसेंस के आवेदन की संख्या दलालों के रुतबे को बखूबी बयां करते हैं। बड़ी संख्या में लाइसेंस व दस्तावेज जब्त किए। यह भी संभव है फर्जी दस्तावेज लगा असली लाइसेंस भी बनवाए जा सकते हैं।

असली जैसे नकली हाेंगे तो हम कैसे जांच करेंगे
पुलिस की कार्रवाई के बाद आरटीओ में आने वाले लाइसेंस के आवेदक आधे हर गए। क्या दलालों के जरिए सिस्टम चल रहा था।
-देखिए, प्रश्न जरूर लग रहा है कि 12 जनवरी को आवेदक कम आए हैं, लेकिन, आवेदन तो ऑनलाइन जमा होते हैं। इसलिए यह पता नहीं लग रहा कि आवेदक किसके जरिए आया है।

फर्जी दस्तावेज बन रहे हैं तो उनके जरिए असली भी बनवा सकते हैं? -दस्तावेज से जांच की जाती हैं। असली दस्तावेज जैसा फर्जी बनकर असली बनाकर ले आए तो हम जांच नहीं कर सकते। फिर तो एजेंसी से जांच कराने में बहुत समय लगता है।

दलाल लाइन में आगे घुसकर फाइल काउंटर पर देते हैं ऐसा क्यूं? -ऐसा नहीं हो सकता। फिर भी आप बता रहे हैं तो जांच कराते हैं। ऐसा नहीं होना चाहिए।

फर्जीवाड़े की यहां भी जांच हो रही है कि कहीं फर्जी दस्तावेजों से तो आवेदन नहीं हुए हैं? -अभी कोई रिकॉर्ड नहीं आया है। लेकिन, पुलिस से कोई जानकारी मिलेगी तो जांच भी कराएंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser