पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पर्यावरण:अनलॉक होते ही सड़कों पर दौड़े वाहन तो शहर में बढ़ा प्रदूषण

अलवर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के वातावरण में जुलाई के महीने में भारी धूल के कणों (पीएम-10) की मात्रा 33.14 माइक्रो ग्राम प्रति घन मीटर बढ़ गई है। जुलाई में यह अाैसतन 76.11 माइक्रो ग्राम प्रति घन मीटर रही, जबकि मई के महीने में यह अाैसतन 42.97 माइक्राे ग्राम प्रति घन मीटर तक थी। लाॅकडाउन में भारी धूल के कणाें की मात्रा वाहन कम चलने के कारण कम रही थी। अब वाहनाें के राेड पर अाने के बाद से यह बढ़ने लगी है। प्रदूषण नियंत्रण मंडल के अलवर कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार अप्रैल में अाैसत रूप से भारी धूल के कणाें की प्रति घन मीटर मात्रा 61.97 माइक्राे ग्राम थी। जुलाई में यह 76.11 माइक्राे ग्राम प्रति घनमीटर है। हालांकि यह अभी खतरनाक स्तर पर नहीं पहुंची है, क्याेंकि प्रति घन मीटर 100 माइक्राे ग्राम से अधिक भारी धूल के कण वायु मंडल में हाेने काे खतरनाक माना जाता है। इसके साथ ही हवा में सूक्ष्म धूल के कणाें (पीएम-2.5) की मात्रा भी अप्रैल के महीने में प्रति घन मीटर 28.65 माइक्राे ग्राम व मई में प्रति घन मीटर 21.38 माइक्राे ग्राम रही, यह भी बढ़कर जून में 39.72 हुई व जुलाई में 39.16 माइक्राे ग्राम प्रति घन मीटर तक चल रही है। धूल के सूक्ष्म कणाें की मात्रा वायुमंडल में 60 माइक्राे ग्राम से अधिक हाेना खतरनाक माना जाता है। ^वायुमंडल में धूल के कणाें की मात्रा अब वाहनों के चलने के कारण बढ़ रही है। लाॅक डाउन के दाैरान यह मई में कम रही थी। शहर में खतरनाक स्तर पर अभी इनकी मात्रा नहीं पहुंची है। बारिश का सीजन हाेने के कारण भी यह मात्रा कम है। -अाेपी गुप्ता, क्षेत्रीय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण मंडल

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

    और पढ़ें