बड़े दिलवाला जिला प्रमुख:कॉन्स्टेबल भर्ती के अभ्यर्थियों के लिए खोले AC रूम, 3 दिन से बैठा हलवाई

अलवर7 दिन पहले

अलवर में कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा के दौरान बाहर से आ रहे परीक्षार्थियों को किसी तरह की दिक्कत न हो, इसके लिए अलवर जिला प्रमुख बलवीर छिल्लर ने अपने आवास के द्वार खोल दिए। महिला कंडीडेट के लिए जहां सरकारी आवास के एसी कमरों में व्यवस्था की गई, वहीं पुरुष अभ्यर्थियों के लिए बड़े कूलर लगाए गए। सभी अभ्यर्थियों के भोजन के लिए आवास पर हलवाई भी बैठा दिया। जिला प्रमुख बलवीर छिल्लर ने कहा- मैं खुद किसान का बेटे हूं, परीक्षार्थी दूर-दूर से आए हैं, उन्हें तकलीफ न हो इसलिए जो बन पड़ा कर रहा हूं, कोशिश है कि अभ्यर्थियों को रहने खाने की दिक्कत न आए।

जयपुर से पुलिस कांस्टेबल भर्ती की परीक्षा देने आई उर्मिला ने कहा कि पहले दो दिन बहुत परेशान रही। रात को रुकने का कहीं अच्छा इंतजाम नहीं हुआ। जब पता लगा कि अलवर जिला प्रमुख आवास पर महिला परीक्षार्थियों के रुकने का इंतजाम है। तब यहां आए। यहां की व्यवस्थाएं इतनी अच्छी कि कहीं देखी नहीं। बेटियों के लिए एसी रूम तक खोल दिए गए। वहीं बार पुरुष अभ्यर्थियों के लिए बड़े कूलर लगाए हैं। गद्दों की कमी नहीं है। ऐसा ही कहना था अन्य अभ्यर्थियों का। खाने-पीने की कोई कमी नहीं रही।

जिला प्रमुख ने आवास पर ही लगवा दिए गद्दे, तीन दिन से हलवाई बना रहा अभ्यर्थियों के लिए भोजन।
जिला प्रमुख ने आवास पर ही लगवा दिए गद्दे, तीन दिन से हलवाई बना रहा अभ्यर्थियों के लिए भोजन।

12 मई से शुरूआत
12 मई से पुलिस भर्ती के अभ्यर्थियों के लिए जिला प्रमुख के सरकारी आवास पर अभ्यर्थियों के रुकने का इंतजाम किया गया था। जो 15 मई तक चलेगा। यहां पहले दिन से काफी संख्या में अभ्यर्थी पहुंचे। महिला व पुरुष दोनों के लिए अलग-अलग इंतजाम थे। महिलाओं को प्रमुख आवाजस के अंदर एसी रूम दिए गए। ताकि वे आसानी से पढ़ाई कर सकें। उनके खाने-पीने की पूरी व्यवस्था अंदर थी।

इस तरह पुरुष अभ्यर्थियों का इंतजाम।
इस तरह पुरुष अभ्यर्थियों का इंतजाम।

बाहर बड़े कूलरों के सामने पुरुष अभ्यर्थी
जिला प्रमुख आवास परिसर में ही पुरुष अभ्यर्थियों के लिए बड़े कूलर लगाए गए। असल में पुरुष अभ्यर्थियों की संख्या अधिक थी। रोजाना सैकड़ों की संख्या में जिला प्रमुख आवास पर अभ्यर्थी आते थे। जो रात को वहीं पर विश्राम करते थे। उनके रात के खाने का इंतजाम होता था। दिन में एग्जाम देते थे।

लंगर चलता रहा
यहां 12 मई से ही खाने का लंगर चालू है। अभ्यर्थियों के लिए हलवाई लगाए गए थे। ताकि अभ्यर्थियों को समय पर खाना मिले। यहां आए अभ्यर्थियों ने खुले मन से जिला प्रमुख आवास पर अभ्यर्थियों ने तारीफ की। उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी जिले में जिला प्रमुख के जरिए ऐसा इंतजाम नहीं किया गया। किसी भर्ती में भी इस तरह अभ्यर्थियों के ठहरने का इंतजाम पहले नहीं देखा।

रोजाना लगते थे भारत मां के जयकारे।
रोजाना लगते थे भारत मां के जयकारे।

जिला प्रमुख आवास पर आए परीक्षार्थी
कॉन्स्टेबल की परीक्षा देने पहले दिन 12 मई को 35 महिला अभ्यर्थी, दूसरे दिन 40 व तीसरे दिन 60 महिला अभ्यर्थी जिला प्रमुख के आवास पर रुकीं। वहीं पुरुष अभ्यर्थियों की बात करें तो पहले दिन 350, दूसरे दिन 450 और तीसरे दिन 700 अभ्यर्थी शामिल हुए। जिला प्रमुख के पीए दीपक के अनुसार परीक्षार्थियों के रहने व खाने पीने की व्यवस्था पर अब तक करीब 2 लाख रुपए खर्च हो गए हैं।

जिला प्रमुख पहली बार बने
बलवीर छिल्लर पहली बार जिला प्रमुख बने हैं। इससे पहले इनकी पत्नी जिला पार्षद रही हैं। पत्नी वर्तमान में भी नीरामणा से पंचायत समिति सदस्य हैं। कांग्रेस नेता के रूप में लंबे समय से जुड़े हुए हैं। किसान आंदोलन के दौरान किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष रहे, फिर प्रदेश अध्यक्ष बने, मूल रूप से उनका प्रॉपर्टी का बिजनेस रहा है।

खबरें और भी हैं...