घर बैठे कर सकेंगे ऑनलाइन आवेदन:रियायती राेडवेज पास के लिए अब नहीं जाना हाेगा बस स्टैंड, पेमेंट गेटवे के माध्यम से भुगतान

अलवर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
इससे लाेगाें काे राेडवेज कार्यालय आने की जरूरत नहीं हाेगा।  - Dainik Bhaskar
इससे लाेगाें काे राेडवेज कार्यालय आने की जरूरत नहीं हाेगा। 

राेडवेज के निशुल्क व रियायती पास बनवाने वालाें के लिए अच्छी खबर है। अब आप ऑनलाइन अपने घर पर विभागीय वेबसाइट https://rsrtcfidsystem.co.in/selfservice/selflogin.aspx के माध्यम से रजिस्ट्रेशन, संबंधित दस्तावेजाें की फाेटाे, पात्रता संबंधी दस्तावेज, जन्म/आयु संबंधी प्रमाणपत्र, मूल निवास प्रमाणपत्र काे अपलाेड कर पेमेंट गेटवे के माध्यम से भुगतान कर सकेंगे।

आरएफआईडी स्मार्ट कार्ड का शुल्क आगार कार्यालय से प्राप्त करने के लिए 40 रुपए व खुद के पते पर लेने का डाकखर्च 75 रुपए तथा स्मार्ट कार्ड का शुल्क अलग से देय हाेगा। प्राप्त प्रार्थना पत्र काे आगार स्तर पर सत्यापन किया जाएगा। सत्यापन के बाद प्रार्थनापत्र स्वीकृत करने पर मुख्यालय से कार्ड बनकर संबंधित व्यक्ति के डाक के पते पर भेज दिया जाएगा। मत्स्य नगर आगार के मुख्य प्रबंधक हेमंत शर्मा व अलवर आगार की मुख्य प्रबंधक नीशू कटारा ने बताया कि लाेगाें की सुविधा के लिए राेडवेज की ओर से रियायती पास की ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा शुरू की है। इससे लाेगाें काे राेडवेज कार्यालय आने की जरूरत नहीं हाेगा।

440 लाेगाें ने किया आवेदन
राेडवेज के अनुसार अलवर आगार में ऑनलाइन 440 लाेगाें ने रियायती पास के लिए आवेदन किए हैं। इनमें से 140 आवेदन स्थानीय स्तर पर पेंडिंग हैं। 440 में से 280 पुलिसकर्मियाें ने आवेदन किए हैं। 40 स्मार्ट कार्ड बनकर आ गए हैं। 260 स्मार्ट मुख्यालय से अभी बनकर आने हैं।

इनके बनते हैं रियायती स्मार्ट कार्ड : कुष्ठ राेगी, मानसिक राेगी व उसका सहयाेगी, नेत्रहीन व उसका सहयाेगी, पत्रकार, पदम पुरस्कार विजेता, स्वतंत्रता सेनानी,, विधवा, विशेष याेग्यजन, विद्यार्थी, पुलिसकर्मी, एड्स राेगी, कैंसर राेगी, थैलीसीमिया राेगी, राष्ट्रीय व राज्य स्तर पर पुरस्कृत शिक्षक, हिमाेफिलिया राेगी, निगम के लाइसेंसधारी कुली, वरिष्ठ नागरिक, आदिवासी जनजाति क्षेत्र में संचालित साधारण सेवा वाहनाें में आदिवासी, राेडवेज कर्मचारी, विधायक, सांसद, पूर्व विधायक व सासंद।

खबरें और भी हैं...