बच्चाें पर भारी पड़ेगी संस्था प्रधानाें की लापरवाही:पाेस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति का मामला,आवेदन लाॅक करने के लिए तीन दिन दिए, फिर भी रह गए 150 आवेदन पत्र

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संस्था प्रधानाें ने 1233 बच्चाें के आवेदन लाॅक नहीं किए। - Dainik Bhaskar
संस्था प्रधानाें ने 1233 बच्चाें के आवेदन लाॅक नहीं किए।

संस्था प्रधानाें की लापरवाही बच्चाें पर भारी पड़ती दिखाई दे रही है। मामला शिक्षा विभाग द्वारा बच्चाें काे दी जाने वाली पाेस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति से जुड़ा है। पहले ताे जिले के संस्था प्रधानाें ने 1233 बच्चाें के आवेदन लाॅक नहीं किए। इसके बाद जब सरकार ने इस पर नाराजगी जताई ताे आवेदनाें काे लाॅक करने के लिए पाेर्टल काे तीन दिन के लिए खाेल दिया गया ताकि संस्था प्रधान आवेदनाें काे लाॅक कर सकें और बच्चाें काे छात्रवृत्ति से वंचित नहीं रहना पड़े।

सरकार द्वारा दी गई इस राहत काे भी कई संस्था प्रधानाें ने गंभीरता से नहीं लिया और अभी भी जिले में करीब 150 ऐसे आवेदन रह गए हैं, जाे लाॅक नहीं किए गए है। ऐसे में यह लापरवाही बच्चाें पर भारी पड़ती दिखाई दे रही है। हालांकि शिक्षा विभाग ने ऐसे संस्था प्रधानाें काे नाेटिस देने की तैयारी कर ली है। एक या दाे दिन में एेसे संस्था प्रधानाें काे नाेटिस जारी किए जाएंगे।

शाला दर्पण पर लाॅक करने थे छात्रवृत्ति के आवेदन
संस्था प्रधानाें काे बच्चाें के छात्रवृत्ति के आवेदनाें काे शाला दर्पण पाेर्टल पर लाॅक करना था। लाॅक हाेने के बाद इसी के अनुसार बजट का आवंटन सरकार द्वारा किया जाना था। इसके लिए पहले सरकार ने 22 अक्टूबर तक का समय दिया था। इसके बाद प्रदेश के कई जिलाें में आवेदनाें के लाॅक नहीं हाेने के मामले सामने आने के बाद पाेर्टल काे दुबारा तीन दिन के लिए खाेला गया था। आवेदन लाॅक नहीं करने की यह गड़बड़ी करीब 30 जिलाें में सामने आई थी और इससे प्रदेश के करीब 34 हजार बच्चे प्रभावित हाे रहे थे।

निदेशालय ने भी जताई थी नाराजगी
माध्यमिक शिक्षा निदेशालय ने भी संस्था प्रधानों द्वारा छात्रवृत्तियों के आवेदन को 22 अक्टूबर तक पोर्टल पर लॉक नहीं करने की गलती पर नाराजगी जताई थी। उन्होंने संयुक्त निदेशकों को पत्र जारी कर संबंधित संस्था प्रधानों को नोटिस जारी करने के निर्देश भी दिए थे।
पहले जब आवेदन लाॅक नहीं किए गए थे ताे हमने व्यक्तिगत फाेन करके आवेदनाें काे लाॅक कराया था। इसके बावजूद कई संस्था प्रधानाें ने आवेदन लाॅक नहीं किए। अब यह आंकड़ा करीब 150 बच्चाें का रह गया है। एेसे संस्था प्रधानाें की सूची तैयार कराई जा रही है। इन्हें नाेटिस जारी किए जाएंगे।
-मुकेश किराड़, एडीईओ माध्यमिक

खबरें और भी हैं...