वॉइस सैंपल देने से इनकार:सभापति और उसका बेटा 20 दिसंबर तक जेल में रहेंगे, 22 नवंबर को रिश्वत लेते पकड़ा था

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलवर. सभापति काे कोर्ट में पेश करने ले जाती एसीबी टीम। - Dainik Bhaskar
अलवर. सभापति काे कोर्ट में पेश करने ले जाती एसीबी टीम।

नगर परिषद सभापति बीना गुप्ता व उसके बेटे कुलदीप गुप्ता को अब 20 दिसंबर तक जेल में रहना पड़ेगा। मंगलवार सुबह 11.30 बजे एसीबी ने सभापति व उसके बेटे को कोर्ट में पेश किया, जहां से दोनों को 20 दिसंबर तक न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजने के आदेश दिए गए। एसीबी ने 22 नवंबर को नीलामी की बाेली लगाने वाले से बिल पास करने की एवज में 80 हजार रुपए की रिश्वत लेते इन दोनों को गिरफ्तार किया था।

23 नवंबर काे कोर्ट ने दाेनाें आरोपियों काे 7 दिसंबर तक न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजने के आदेश दिए थे। तब से दोनों जेल में हैं। मंगलवार को एसीबी ने न्यायालय के समक्ष सभापति व उसके बेटे से वॉइस सैंपल देने के लिए कहा, लेकिन सभापति व उसके बेटे ने एसीबी काे वॉइस सैंपल देने से इनकार कर दिया। इसके बाद न्यायालय ने उन्हें फिर से न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया।

इस मामले के जांच अधिकारी दाैसा एसीबी के डीएसपी राजेश सिंह ने बताया कि मंगलवार को रिश्वत लेने की आराेपी सभापति व उसके बेटे काे दूसरी बार न्यायालय में पेश कर उनसे वॉइस सैंपल देने के लिए कहा, तो दाेनाें ने इससे मना कर दिया। परिवादी माेहन लाल सोमवंशी से रिश्वत मांगने संबंधी ऑडियाे क्लिप की जांच व आवाज मिलाने के लिए सभापति व उसके बेटे के वॉइस सैंपल लिए जाने थे। उन्होंने बताया कि इस मामले का अनुसंधान जारी है। चालान पेश करने में दाे सप्ताह का समय लग सकता है।

इस मामले में सभापति के वकील ने जयपुर हाईकोर्ट में जमानत याचिका लगा रखी है। जिस पर 9 दिसंबर काे सुनवाई होनी है। इससे पूर्व अलवर की अदालत ने जमानत अर्जी खारिज कर दी थी। पार्षदों को सभापति से नहीं मिलने दिया : कोर्ट में पेश करने के दौरान कई पार्षद व परिचित सभापति से मिलने पहुंचे, लेकिन एसीबी के अधिकारियों ने किसी को सभापति से मिलने नहीं दिया।

खबरें और भी हैं...