दो बहनों को छोड़ कर गये थे नाना:आश्रयगृह में अनाथ बच्ची की तबीयत बिगड़ने से माैत

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरती बालिका आश्रयगृह में 5 साल से पुनर्वासित 13 साल की अनाथ बालिका करीना की बुधवार देर रात तबीयत खराब हाेने से माैत हाे गई। - Dainik Bhaskar
आरती बालिका आश्रयगृह में 5 साल से पुनर्वासित 13 साल की अनाथ बालिका करीना की बुधवार देर रात तबीयत खराब हाेने से माैत हाे गई।

आरती बालिका आश्रयगृह में 5 साल से पुनर्वासित 13 साल की अनाथ बालिका करीना की बुधवार देर रात तबीयत खराब हाेने से माैत हाे गई। अरावली विहार थानाधिकारी जहीर अब्बास ने बताया कि आश्रयगृह की नाइट वार्डन शीलादेवी ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि करीना की रात करीब 2.30 बजे तबीयत खराब हाे गई। उसे अस्पताल लेकर गए।

वहां उपचार के दाैरान चिकित्सकों ने बालिका काे मृत घोषित कर दिया। रिपोर्ट में लिखा कि वर्ष 2017 में बालिका करीना व उसकी बड़ी बहन करिश्मा काे बीजवा रामगढ़ निवासी उसके नाना ने पुनर्वासित करवाया था। पुलिस ने बताया कि दाेनाें बहन अनाथ थीं। बालिका के पिता की माैत हाे चुकी और मां छाेड़कर चली गई।

इसके चलते नाना ने दाेनाें बहनों काे बालिकागृह में भर्ती कराया दिया। बाद में बालिकाओं के नाना-नानी की भी माैत हाे गई थी। करीना की बड़ी बहन करिश्मा अभी इसी आश्रयगृह में है। पुलिस ने बताया कि प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि छठी कक्षा तक पढ़ी बालिका करीना कई माह से बीमार थी। उसकी दवा चल रही थी। पुलिस ने मेडिकल बाेर्ड से शव का पोस्टमार्टम करवाया है।

खबरें और भी हैं...