• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Deeg Resident Of Bharatpur Made A Man's Wife The Wife Of Another In The Greed Of Money, Stayed With Him For 8 Days, Then Absconded With Jewelry And Cash

55 साल की महिला से शादी, 8 दिन बाद भागी:37 साल के युवक से 8 लाख रुपए लेकर शादीशुदा महिला से करवा दी थी शादी, 4 लाख के जेवर और 50 हजार रुपए नकद ले गई; 2 बिचौलिए गिरफ्तार

अलवर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घर से भागने वाली महिला गीता देवी। - Dainik Bhaskar
घर से भागने वाली महिला गीता देवी।

अलवर के टहला के कानियावास गांव में फर्जी शादी का मामला सामने आया है। बिचौलियो ने स्टॉम्प पर एग्रीमेंट कर भरतुपर के डीग के निकट पानेरी की एक 55 साल की महिला गीता से कानियावास गांव के 37 साल के युवक से शादी करा दी। जो शादी के 8 दिन बाद ही भाग गई। 15 जून 2020 को शादी हुई थी। 23 जून 2020 को पीहर जाने की कहकर चली गई। साथ में 4 लाख के जेवर और 50 हजार रुपए नकद ले गई। इससे पहले शादी के 8 लाख रुपए दिए थे। एक साल पुराने इस मामले का खुलासा 2 बिचौलियों के गिरफ्तार होने के बाद हुआ।

पूरे मामले में टहला के कानयाबास निवासी परिवादी रामावतार पुत्र जगदेव ने मामला दर्ज कराया था। जो गांव का जमींदार है। रिपोर्ट में बताया कि श्रीया उर्फ श्रीराम पुत्र रामसहाय गुर्जर निवासी बाकाला थानागाजी की उनके गांव कानियाबास में जान-पहचान है। उसे पता था कि परिवादी की शादी नहीं हुई है। वह शादी करने का इच्छुक है। इसलिए उसने सहयोगी निहाल सिंह निवासी कुशालगढ़ मालाखेड़ा व गीता देवी पत्नी नत्थूराम गुर्जश्र निवासी पानेरी डीग भरतपुर ने मिलकर षड़यंत्र रच लिया। दोनों ने शादी के लिए गीता देवी को तैयार कर लिया। फिर परिवादी के पास पहुंच गए। 7 जून 2020 को परिवादी ने श्रीराम व निहाल सिंह को 8 लाख रुपए दे दिए।

इसके बाद श्रीराम, निहाल व गीता देवी के अलावा दो-तीन अन्य लोग परिवादी को तहसील लेकर गए। वहां स्टॉम्प पर पर दोनों की शादी होने का करार किया। फिर उसी दिन गीता परिवादी के साथ दुल्हन बन कर कानियाबास टहला आ गई। 8 दिन रहने के बाद 23 जून 2020 को श्रीमरा व निहाल सिंह उसे लेने आ गए। बोले - ये कुछ दिन अपने पीहर जाएगी। वह घर के जेवर व 50 हजार रुपए लेकर पीहर चली गई। इसके बाद कई दिन नहीं आई। परिवादी डीग पानेरी पत्नी को लेने गया। लेकिन उसने आने से मना कर दिया। इसके बाद बिचौलियों ने कहा कि वे न पैसा दे सकते न कोई मदद कर सकते। तब परिवादी ने टहला थाने में रिपोर्ट दी कि शादी के नाम पर उसके साथ ठगी की गई है। आखिर परेशान होकर जून 2020 में ही पुलिस ने मामला दर्ज किया। आखिर एक साल 3 महीने बाद पुलिस ने मामले में बुधवार दो बिचौलियों को गिरफ्तार किया है। इसके बाद पूरा मामला सामने आया।

पुलिस गिरफ्त में बिचौलिए।
पुलिस गिरफ्त में बिचौलिए।

अब दो को गिरफ्तार किया
पुलिस ने इस मामले में अब तक निहाल पुत्र कन्हैया निवासी बंजारों की ढाणी बेरेबास नारायणपुर व नत्थी सिंह पुत्र अमर सिंह निवासी पानेरी डीग भरतपुर को गिरफ्तार किया है। अन्य आरोपियों की तलाश जारी है। जिसके लिए पुलिस बराबर दबिश देने में लगी है।

खबरें और भी हैं...