कोरोनावायरस / जिला कलेक्टर ने किशनगढ़बास में शिक्षकों को होम क्वारैंटाइन से मुक्त करने के आदेश दिए

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

अलवर. जिला कलेक्टर ने कहा है कि किशनगढ़बास में गत दिनों से होम क्चारेंटाइन किए 31 शिक्षकों को क्वारेंटाइन से मुक्त करने के निर्देश दिए गए है ,इनमें से दो शिक्षक जो रेड जोन से आए है उनकी रविवार को जांच करवा दी जाएगी। शेष को कुछ निर्देश दे दिए जाएगी ताकि वे कम से कम भ्रमण करें। उल्लेखनीय है कि किशनगढ़बास के उप जिला कलेक्टर द्वारा  शिक्षा विभाग की ड्यूटी देने आए 31 शारीरिक शिक्षकों को गत एक सप्ताह से होम क्वारेंटाइन कर दिया था जबकि सीएम सहित शिक्षा मंत्री के निर्देश थे कि प्रदेश में कहीं से भी आने वाले शिक्षकों को क्वारेंटाइन नहीं किया जाना है।  एसडीएम ने गृह मंत्रालय के आदेशों का हवाला देते हुए इन्हें होम क्वारेंटाइन किया हुआ है। पिछले दिनों जालौर में ऐसे ही शिक्षकों को होम क्वारेंटाइन किया था जिन्हें शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने गलत बताते हुए आदेश वापस लेने की बात कही थी।

दरअसल ये वो शिक्षक हैं जो लॉक डाउन के दौरान इधर-उधर कहीं फंस गए थे या अपने घरों तक पहुंच गए थे। बाद में शिक्षा मंत्री ने कहा था कि सभी शिक्षक अपने हैड क्वार्टर पर पहुंच जाए तो ये लोग यहां आ गए। इनके आने के बाद आज तक करीब आठ दिन में इनकी थर्मल जांच तक नहीं की गई परंतु एसडीएम ने होम क्वारेंटाइन करने के आदेश दे दिए। इनमें से कुछ शिक्षक ऐसे भी है जो अकेले कमरा लेकर रहते है उनके कमरें में पंखे तक नहीं नहीं है परंतु एसडीएम सुनने को तैयार नहीं है। 
^हमारा बाहरी राज्यों एवं हॉट स्पॉट से आने वालों को होम क्वारेंटाइन करने पर फोकस है। अगर सरकारी ड्युटी पर आने वालों को क्वारेंटाइन किया जा रहा है तो स्थानीय प्रशासन और सीएमएचओ को निर्देश दिए जाएंगे कि स्पष्ट गाइड लाइन जारी करें। ताकि राज्य सरकार व अन्य विभागों के दिशा निर्देशों की पालना के साथ ऐसी व्यवस्था बन जाए, जिससे कोरोना रोकथाम के साथ लोगों को परेशानी नहीं हो। राजकीय कार्य भी सुचारू चल सके। अगर इस तरह सरकारी कर्मचारियों को क्वारेंटाइन किया जाएगा तो वे घर ही नहीं जा पाएंगे। घर जाने के बाद वापस आएगा तो फिर से उसे क्वारेंटाइन में जाना पडेगा।
-इंद्रजीत सिंह, जिला कलेक्टर अलवर

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना