विश्व दृष्टि दिवस आज:माेबाइल व कंप्यूटर के असीमित उपयाेग से बढ़ रहे आंखाें के मरीज

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
माेबाइल, कंप्यूटर एवं टीवी के असीमित उपयाेग ने आंखाें के मरीजाें की संख्या बढ़ा दी है। - Dainik Bhaskar
माेबाइल, कंप्यूटर एवं टीवी के असीमित उपयाेग ने आंखाें के मरीजाें की संख्या बढ़ा दी है।
  • 80 फीसदी मरीजाें का इलाज संभव

माेबाइल, कंप्यूटर एवं टीवी के असीमित उपयाेग ने आंखाें के मरीजाें की संख्या बढ़ा दी है। इनमें सबसे ज्यादा युवा वर्ग शामिल है। यह कहना है नेत्र राेग विशेषज्ञ डाॅ. सुरेश गुप्ता का। डाॅ. गुप्ता ने विश्व दृष्टि दिवस पर जागरूकता काे लेकर दैनिक भास्कर काे बताया कि युवा वर्ग सर्वाधिक साेशल मीडिया पर व्यस्त रहता है, जाे मानसिक तनाव और आंखाें की बीमारी का मुख्य कारण है। देश में माेतियाबिंद, ग्लूकाेमा, मैकुलर, डिजनटेशन, मधुमेह रेटिनाेपैथी, दृष्टि दाेष एवं काॅर्नियल अंधेपन के प्रमुख कारण हैं।

आईएपीबी अंतरराष्ट्रीय संस्था के मुताबिक स्कूली बच्चाें की नियमित जांच से 5 प्रतिशत बीमारियाें का पता लगाकर उपचार संभव है। बच्चाें में कुपाेषण और विटामिन ए की कमी से काॅर्निया व रेटीना के मरीज बढ़ रहे हैं। शारीरिक शिक्षा का अभाव और लापरवाही के कारण आंखाें की सामान्य बीमारी ग्लूकाेमा में तब्दील हाे रही है, लेकिन अंधेपन के 80 प्रतिशत मरीजाें का इलाज संभव है।

खबरें और भी हैं...