पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • Farmer Leader Rakesh Tikait Held A Meeting In Alwar District On 12 February, After Which He Started Going To The Shahjahanpur Haryana Border From The Villages Around Laxmangarh.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान आंदोलन:शाहजहांपुर-हरियाणा बॉर्डर पर जा रहा राशन, अलवर में 12 फरवरी को राकेश टिकैत ने कहा था- अनाज को तिजोरी में बंद नहीं होने देंगे

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गांवों से राशन लेकर जाते किसान। - Dainik Bhaskar
गांवों से राशन लेकर जाते किसान।
  • अलवर के लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र के झालाटाला गांव में राकेश टिकैत ने की थी सभा

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की अलवर में सभा के बाद लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र से किसानों के घर से शाजहांपुर-हरियाणा बॉर्डर पर राशन पहुंचने लगा है। यहां के लोगों का कहना है कि वे किसानों की लड़ाई में उनके साथ हैं। हर घर से राशन जाएगा और किसान भी बॉर्डर पर आंदोलन में भाग लेंगे।

अनाज तिजोरी में बंद नहीं होने देंगे
12 फरवरी को अलवर जिले के लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र के झालाटाला गांव में राकेश टिकैत ने सभा की थी। इस दौरान टिकैत ने कहा था कि अनाज को तिजाेरी में बंद नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा, किसान के अनाज पर राजनीति भी नहीं होने देंगे। नए कृषि कानूनों का पुरजोर विरोध का जिक्र करते हुए टिकैत बोले, जब तक ये तीनों कानून वापस नहीं होंगे, तब तक किसानों की लड़ाई को कमजोर नहीं होने दिया जाएगा। इसी उद्देश्य से वे अलवर में किसानों के बीच आए हैं।

अलवर के गांवों से राशन लेकर जाते ट्रैक्टर।
अलवर के गांवों से राशन लेकर जाते ट्रैक्टर।

राकेश टिकैत की सभा के 10 दिन बाद राशन जाना हुआ शुरू
राकेश टिकैत की झालाटाला में सभा होने के 10 दिन बाद किसानों ने आसपास के गांवों से राशन एकत्रित कर शाहजहांपुर -हरियाणा बॉर्डर पर भेजवाना शुरू कर दिया है। यहां के किसानों ने कहा कि राकेश टिकैत किसानों का नेता हैं। किसानों के हकों की खातिर लड़ाई लड़ी जा रही है। ताकि सरकार MSP पर कानून बनाने को मजबूर हो। जब तक MSP पर कानून नहीं बनेगा तब तक किसानों का भला नहीं हो सकता है।

अलवर में 2 दिसंबर से आंदोलन
अलवर जिले से लगते शाहजहांपुर हरियाणा बॉर्डर पर किसानों को दो दिसंबर को पड़ाव शुरू हुआ। 12 दिसम्बर से किसान शाहजहांपुर-हरियाणा बाॅर्डर पर नेशनल हाईवे-48 पर आ गए। पहले हाईवे की एक लेन पर आंदोलन शुरू किया। 25 दिसंबर से हाईवे की दोनों लेन पर किसान जमा हो गए। उसके बाद से किसानों का बॉर्डर पर आंदोलन जारी है।

बॉर्डर पर इस तरह झोपड़ी बना रहे किसान। ताकि गर्मी से बचा जा सके।
बॉर्डर पर इस तरह झोपड़ी बना रहे किसान। ताकि गर्मी से बचा जा सके।

आर-पार की लड़ाई
अब शाहजहांपुर-हरियाणा बॉर्डर पर किसान आर-पार की लड़ाई लड़ने को तैयार हैं। बॉर्डर पर गर्मी से बचने के लिए किसान झोपड़ी बनाने में जुट गए हैं। ताकि गर्मी का मुकाबला किया जा सके। सर्दी में भी किसानों को बड़ी परेशानी झेलनी पड़ी थी।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

और पढ़ें