पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शाहजहांपुर बॉर्डर पर आंदोलन:केंद्र और किसानों के बीच कल होने वाली वार्ता का इंतजार, फिर आगे की रणनीति तय करेंगे आंदोलनकारी

अलवर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शाहजहांपुर हरियाणा बॉर्डर पर किसानों के तम्बुओं के पास का हाल। यहां गुरुवार सुबह काफी कोहरा भी रहा। - Dainik Bhaskar
शाहजहांपुर हरियाणा बॉर्डर पर किसानों के तम्बुओं के पास का हाल। यहां गुरुवार सुबह काफी कोहरा भी रहा।

कृषि कानून के विरोध में अलवर के शाहजहांपुर खेड़ा हरियाणा बॉर्डर पर किसान आंदोलन जारी है। बदलते मौसम से बढ़ती सर्दी ने किसानों को जकड़ रखा है। मौसम की मार से किसान परेशान हैं। लेकिन डटे हुए हैं। किसानों का आंदोलन अभी तक शांतिपूर्वक है। इतना जरूर है कि 8 जनवरी को केंद्र सरकार और किसानों के बीच होने वाली वार्ता के निर्णय के बाद यहां के किसान नेता भी आगे की रणनीति का ऐलान कर सकते हैं।

किसान नेता रामपाल जाट पुलिस प्रशासन के अधिकारियों से चर्चा करते हुए।
किसान नेता रामपाल जाट पुलिस प्रशासन के अधिकारियों से चर्चा करते हुए।

जब तक किसानों के हित में बेनीवाल तब तक सब साथ: रामपाल
किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट कई दिन अस्पताल में भर्ती रहने के बाद वापस शाहजहांपुर बॉर्डर पर आ चुके हैं। उनका कहना है कि नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल, उनके कार्यकर्ता का किसान आंदोलन में शांति पूर्ण योगदान रहा है। जब तक बेनीवाल व उनके साथ आए कार्यकर्ता और किसान साथ हैं आंदोलन और गति पकड़ेगा। किसान आंदोलन से अलग जाकर बेनीवाल कोई भी निर्णय करते हैं तो निश्चित रूप से वह उनका व्यक्तिगत निर्णय होगा। किसानों की लड़ाई के लिए सब साथ हैं। अब तक किसानों का संघर्ष काफी हद तक सफल रहा है।

जहां बॉर्डर पर बैरियर वहां तम्बू। बगल में बारिश के पानी से बिगड़े हाल।
जहां बॉर्डर पर बैरियर वहां तम्बू। बगल में बारिश के पानी से बिगड़े हाल।

तंबू और टेंट से बूंदें टपक रही, बगल में पानी भरा
पिछले करीब 4 दिनों से शाहजहांपुर खेड़ा हरियाणा बॉर्डर पर किसानों की मुश्किलें कई गुना बढ़ी है। फिलहाल, यहां पर किसानों के तंबू और टेंट बारिश में भीग चुके हैं। अंदर रखा सामान भी गीला होने से किसानों का वहां रात में रुकना मुश्किल हो चुका है। बहुत बार तो ऐसा होता है कि बारिश आने के बाद किसानों को अलाव के सहारे रात निकालनी पड़ती है।

3 दिन से धूप भी नहीं
शाहजहांपुर खेड़ा हरियाणा बॉर्डर के चारों तरफ हजारों बीघा जमीन में खेती है। खेतों में सिंचाई के कारण वहां का न्यूनतम तापमान जिले के अन्य जगहों की तुलना में काफी कम रहता है। फसल के कारण रात्रि को ओस भी खूब पड़ती है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

और पढ़ें