वन मंडल में वन संरक्षण:फ्रांस सरकार की संस्था ने किया अलवर की देवबनियों का निरीक्षण, 2013 से 2017 के बीच बनाई गई पक्की दीवार काे देखा

अलवर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
देवबनी का निरीक्षण करती फ्रांस की एएफडी संस्था की टीम व वन अधिकारी। - Dainik Bhaskar
देवबनी का निरीक्षण करती फ्रांस की एएफडी संस्था की टीम व वन अधिकारी।

फ्रांस सरकार की एएफडी संस्था की टीम ने गुरुवार काे अलवर वन मंडल में वन संरक्षण के लिए किए जा रहे कामाें का निरीक्षण किया। टीम ने देवबनियाें काे संरक्षित और विकसित करने के काम काे देखा। निरीक्षण के दाैरान टीम में एफडी संस्था के इमैनुएल फाेरमैन एवं अक्षिता के साथ वन विभाग मुख्यालय से मुख्य वन संरक्षक टीजे कविता व केसी मीणा भी साथ थे।

टीम ने थानागाजी के मालूताना में 2013 से 2017 के बीच बनाई गई पक्की दीवार काे देखा। दीवार के बनने के बाद अवैध खनन पर राेक लगी और जंगल में पाैधाें की संख्या बढ़ी। इसके बाद टीम ने धूनीनाथ की देववनी व गढ़ बसई का निरीक्षण किया। यहां विदेशी मेहमानाें का स्थानीय लाेगाें ने स्वागत किया। उन्हें कृपाविस संस्थान के अमन सिंह ने देववनी और ओरण परंपरा के जरिए वन संरक्षण के बारे जानकारी दी।

राजगढ़ के माचाडी वन क्षेत्र में 2013 में ग्रामीणाें द्वारा किए पाैधराेपण के बाद पाैधाें काे देखा। ग्रामीणाें ने पलाश के फूलाें से हर्बल गुलाल व पत्ताें से दाेने पत्तल बनाकर दिखाया गया। 2013 से पहले यह इलाका उजाड़ था। पाैधे लगने के बाद हराभरा हाे गया। टीम ने अंत में ईसवाना में प्रस्तावित पक्की दीवार की जगह देखी। यहां मुख्य वन संरक्षक केसी मीना ने अवैध खनन राेकने की जानकारी दी। इस दाैरान डीएफओअपूर्व कृष्ण श्रीवास्तव भी माैजूद थे। अलवर वन मंडल का दाैरा करने के बाद टीम भरतपुर के लिए रवाना हाे गई।

खबरें और भी हैं...