निशुल्क ऑक्सीजन सेवा:गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने शुरू की निशुल्क ऑक्सीजन सेवा, पहले दिन 24 लाेगाें काे सिलेंडर उपलब्ध कराए

अलवर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ऑक्सीजन सिलेंडर सेवा शुरू करने वाली कमेटी के पदाधिकारी। - Dainik Bhaskar
ऑक्सीजन सिलेंडर सेवा शुरू करने वाली कमेटी के पदाधिकारी।

पूरा देश कोरोना महामारी की चपेट में है। गंभीर रूप से बीमार मरीजों की सबसे बड़ी जरूरत है ऑक्सीजन। इसके बिना सांसों की डोर टूट रही हैं। ऐसे माहौल में अलवर के स्कीम नंबर दो स्थित गुरुद्वारे में बुधवार सुबह 10 बजे निशुल्क ऑक्सीजन मुहैया कराने की व्यवस्था शुरू हुई।

इसके करीब एक घंटे बाद से ही गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रतिनिधियों के पास फरीदाबाद, पलवल, दिल्ली व गुड़गांव से लोगों के फोन आने शुरू हो गए। गुरुद्वारा प्रमुख हरमीत सिंह मेहंदीरत्ता के मोबाइल की घंटी घनघनाने लगी। फोन करने वाले कह रहे थे- हमारे मरीज का ऑक्सीजन लेवल बहुत कम हो गया है।

अगर ऑक्सीजन नहीं मिली तो मुश्किल हो जाएगी। प्लीज, हमें एक सिलेंडर दिला दो। मेहंदीरत्ता ने बताया कि पहले दिन बुधवार काे 23 लाेगाें काे ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराए गए। इनमें अलवर के 10, दिल्ली के 5, भिवानी के 4, पलवल के 2, जयपुर, फरीदाबाद व साेहना के 1-1 व्यक्ति को सिलेंडर दिया गया। गुरुद्वारे के पास अभी 50 सिलेंडर मेहंदीरत्ता ने बताया कि एडीएम रामचरण शर्मा व एमआईए स्थित सिनर्जी स्टील फैक्ट्री के प्रयासों से निशुल्क ऑक्सीजन सिलेंडर दिए जाने का इंतजाम हो सका है। हम धीरे-धीरे खाली सिलेंडर बढ़ा रहे हैं। अभी हमारे पास केवल 50 सिलेंडर हैं।

दूसरों की पीड़ा को अपनी समझकर की शुरुआत

मेहंदीरत्ता ने बताया कि मेरे दामाद के दिल्ली में रहने वाले तीन रिश्तेदाराें काे ऑक्सीजन की जरूरत थी। उनमें से एक दिल्ली के अस्पताल में भर्ती है, जिसकी हालात अधिक गंभीर है। उनकाे ऑक्सीजन सिलेंडर मिलने में परेशानी हाे रही थी। रिश्तेदाराें ने मुझे फाेन कर पूछा कि आपके यहां व्यवस्था हाे सकती है।

तब यह भावना जागी कि अलवर में यह सेवा शुरू की जाए। इसके बाद मैं 27 अप्रैल काे सुबह कंपनीबाग में पेड़ाें के लिए टैंकर से पानी डालने गया। वहां कंपनी बाग विकास समिति के अध्यक्ष साैरभ शर्मा से इस विषय में चर्चा की। शर्मा ने कहा कि एमएआई स्थित सिनर्जी स्टील फैक्ट्री में मनाेज चंचल एचआर है, उनसे बात करो।

मैंने मोबाइल पर बात की तो मनाेज चंचल ने कहा यदि प्रशासन अनुमति दे ताे हम आपकाे निशुल्क ऑक्सीजन गैस दे सकते हैं, लेकिन आपकाे सिलेंडराें की व्यवस्था करनी हाेगी। इसके बाद मैंने एडीएम रामचरण चरण शर्मा से बात की।

उन्हाेंने हां भरने में देर नहीं की। उनकी अनुमति के बाद सिनर्जी स्टील फैक्ट्री से निशुल्क ऑक्सीजन सिलेंडर मिलना शुरू हो गए। इसके बाद बुधवार सुबह से गुरु प्रबंधक कमेटी की ओर से ऑक्सीजन सिलेंडर की सेवा शुरू कर दी गई। साेशल मीडिया पर यह जानकारी वायरल हाेने के साथ ही देशभर से फाेन आना शुरू हाे गए।

मजबूरी और बेबसी की 2 कहानियां

फरीदाबाद से सोनू ने कहा- हमारे यहां ऑक्सीजन के लिए लंबी लाइन है, पता नहीं मिलेगी भी या नहीं। हमें हर हाल में ऑक्सीजन का सिलेंडर चाहिए। हमारे पास खाली सिलेंडर हैं। प्लीज...दे दीजिए। जवाब में मेहंदीरत्ता ने कहा- आप अलवर के स्कीम नंबर 2 स्थित गुरुद्वारे में आ जाइए। आप यदि रात के 12 बजे भी आएंगे, सिलेंडर मिल जाएगा। इतना सुनने के बाद सोनू ने कहा- ठीक है। हम यहां से निकल रहे हैं। पलवल से 52 साल की महिला रमा वर्मा के परिजन ने फोन पर कहा- हमारा मरीज घर पर है। उसे ऑक्सीजन की जरूरत है। हमें पलवल में दो दिन से ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। अस्पताल में तो बैड ही नहीं हैं। आप ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध करा दो।

खबरें और भी हैं...